दिल्ली डेयरडेविल्स ने अपने गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के दम पर मुम्बई इंडियंस को 11 रनों से हराकर जीत के साथ इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण का समापन किया। दिल्ली की टीम पहले ही प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी थी जबकि मौजूदा चैम्पियन मुम्बई की टीम दिल्ली के हाथों मिली इस हार के साथ खिताबी दौड़ से बाहर हो गई।

फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली ने ऋषभ पंत (64) की अर्धशतकीय पारी और विजय शंकर की ओर से बनाए गए अहम 43 रनों के दम पर मुंबई को निर्धारित 20 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 175 रनों का लक्ष्य दिया।

पंत इस सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने 14 मैचों में 52.61 की औसत के साथ 684 रन बनाए हैं। दूसरे नंबर पर हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन हैं, जिन्होंने 14 मैचों में 60.09 की औसत से 661 रन बनाए हैं। हैदराबाद पहले ही प्लेऑफ में पहुंच चुकी है और विलियमसन एक बार फिर टॉप स्कोरर बन सकते हैं।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई के लिए पारी की शुरूआत करने उतरे सूर्यकुमार यादव (12) पहले ही ओवर में एक बार जीवन दान पाकर दूसरी बार नेपाल के गेंदबाज संदीप लामिचाने की गेंद से नहीं बच सके और पहले ओवर की चौथी गेंद पर विजय शंकर के हाथों बाउंड्री के पास लपके गए।

अपने पहले ही ओवर में विकेट गंवाने के बावजूद मुंबई ने इवान लेविस (48) और ईशान किशन (5) की अच्छी साझेदारी के दम पर पावरप्ले में 57 रन बनाकर अपनी स्थित मजबूत की। हालांकि, इसी स्कोर पर अमित मिश्रा की गेंद पर लंबा शॉट मारने वाले किशन बाउंड्री पर विजय शंकर के हाथों लपके गए। किशन और लेविस ने 45 रन जोड़े थे।

इसके बाद, केरन पोलार्ड (7) ने लेविस के साथ तीसरे विकेट के लिए 17 रन जोड़े और टीम को 74 के स्कोर तक पहुंचाया। इसी स्कोर पर मिश्रा ने लेविस को विकेट के पीछे खड़े पंत के हाथों कैच आउट करा मुंबई का तीसरा विकेट गिराया।

लेविस इस सीजन में तीसरा अर्धशतक लगाने से चूक गए। उन्होंने 31 गेंदों का सामना करते हुए तीन चौके और चार छक्के लगाए।

नौवें ओवर की आखिरी गेंद पर लेविस का विकेट गिरा। इसके बाद, 10वें ओवर की पहली गेंद पर पोलार्ड भी पवेलियन लौट गए। पोलार्ड लामिचाने की गेंद पर लंबा शॉट मारने की कोशिश में बाउल्ट के हाथों लपके गए।

पावरप्ले में अपनी स्थिति मजबूत करने वाली मुंबई कमजोर हो रही थी। पोलार्ड के आउट होने के बाद कप्तान रोहित शर्मा (13) और क्रुणाल पांड्या (5) टीम की पारी संभालने उतरे, लेकिन मेहमान टीम ने क्रुणाल के रूप में अपना एक और विकेट गंवा दिया।

क्रुणाल भी 79 के स्कोर पर लामिचाने की गेंद पर कैच आउट होकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद, कप्तान रोहित ने यहां हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या (27) के साथ मिलकर टीम को संभालने की कोशिश की, लेकिन वह भी ज्यादा देर तक मैदान पर नहीं टिक पाए।

हर्षल पटेल की गेंद पर वह भी बाउल्ट के हाथों लपके गए, रोहित और हार्दिक ने छठे विकेट लिए 43 रन जोड़े।

रोहित के आउट होने के बाद हार्दिक को भी दिल्ली के गेंदबाजों ने मैदान पर टिकने नहीं दिया। उन्हें मिश्रा ने राहुल तेवतिया के हाथों कैच आउट करवाया और मुंबई का सातवां विकेट भी गिरा दिया।

हार्दिक जब आउट हुए तब टीम का स्कोर 122 था। मयंक मारकंडे (3) के साथ टीम की पारी संभालने आए बेन कटिंग (37) के दो चौकों और छक्कों ने मुंबई को लक्ष्य के करीब पहुंचना में थोड़ी मदद दी। अब मेजबान मुंबई को 12 गेंदों में 23 रनों की जरूरत थी, लेकिन 157 के स्कोर पर बाउल्ट ने मारकंडे को आउट करने के साथ ही मुंबई की उम्मीदों को बड़ा झटका दिया।

मुंबई को आखिरी ओवर में लक्ष्य हासिल करने के लिए 18 रनों की दरकार थी। यहां कटिंग ने हर्षल की गेंद पर एक छक्का लगाया लेकिन अगली ही गेंद पर वह लपके गए। कटिंग जब आउट हुए तब टीम का स्कोर 163 था। इसी स्कोर पर हर्षल ने जसप्रीत बुमराह को भी बाउल्ट के हाथों कैच आउट कर टीम की पारी समाप्त कर दी।

इस पारी में दिल्ली के लिए नेपाल के युवा गेंदबाज संदीप लामिचाने, हर्षल पटेल और अमित मिश्रा ने तीन-तीन विकेट लिए,वहीं ट्रैंट बाउल्ट को एक सफलता मिली। मिश्रा को दबाव में शानदार गेंदबाजी करने के लिए मैन ऑफ द मैच चुने गए।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds