नासा के द्वारा अंतरीक्ष में कई प्रकार के प्रयोग अकसर होते रहते हैं। हाल ही में अमेरिकी अंतरीक्ष एजेंसी नासा के इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह पर हवा का गड़गड़ाहट को दर्ज किया है। अब पृथ्वी पर रहने वाले लोग पहली बार मंगल ग्रह पर हवा की उपस्थिति को सुन सकेंगे। नासा ने इसकी जानकारी शुक्रवार को दी।

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

New images from our Mars InSight lander show its robotic arm is ready to do some lifting. With a reach of nearly 6 feet, the arm will be used to pick up science instruments from the lander’s deck, gently setting them on the Martian surface at Elysium Planitia. This image from InSight’s robotic-arm mounted Instrument Deployment Camera shows the instruments on the spacecraft’s deck, with the Martian surface of Elysium Planitia in the background. The arm will use its Instrument Deployment Camera, located on its elbow, to take photos of the terrain in front of the lander. These images will help mission team members determine where to set InSight’s seismometer and heat flow probe, the only instruments ever to be robotically placed on the surface of another planet. Placement is critical, and the team is proceeding with caution. Two to three months could go by before the instruments have been situated and calibrated. Credits: NASA/JPL-Caltech #InSight #MarsLanding #NASAInSight #NASA #JPL #NASAJPL #redplanet #theredplanet #Martian #planet #Mars #space #solarsystem #Planet #lander #surface #arm #robot #robotics

A post shared by NASA (@nasa) on

नवभारत टाइम्स के अनुसार, इनसाइट लैंडर ने मंगल पर चलने वाली गड़गड़ाहट को दर्ज किया है जिसकी स्पीड करीब 10 से 15 मील प्रति घंटे थी। इस लैंडर को नासा ने इसी वर्ष नवंबर माह की 26 तारीख को भेजा था। इंपीरियल कॉलेज लंदन के प्रमुख खोजकर्ता ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा, “सिस्मोमीटर से मिला यह शुरूआती 15 मिनट का डाटा है।”

उन्होंने आगे कहा, “यह आवाज ऐसी है जैसे कोई झंडा लहरा रहा हो। यह सच में एक पारलौकिक ध्वनि है।” इनसाइट लैंडर को मंगल गृह की अंदरूनी जानकारी का अध्ययन करने के लिये तैयार किया गया है, जिसमें भूकंप का पता लगाना और गृह की ऊपरी सतह से निकलने वाली गर्मी का अध्ययन  भी शामिल है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds