फॉरेंसिक वैज्ञानिकों की एक टीम 4,000 वर्ष पुरानी ममी से डीएनए निकालने में कामयाब रही, और उनकी इस खोज ने सदियों पुराने रहस्य को सुलझा दिया है।

इजिप्ट की ममी का पूरी तरह से संरक्षित शव नही था, जब पुरातत्वविदों ने ताबूत के ऊपर उठाया। बल्कि सिर कटा हुआ, विकृत और सिर पर पट्टी लिपटी हुई थी। उन्होंने 1915 की तारीख वाली एक कब्र को खोदा जो रहस्यों का सूत्र बना।

This 4,000-Year-Old Mummy Just Solved a Century-Old Mystery
Credit: livescience

मार्च 1 को जॉर्नल जेन्स (journal Genes) में छपी एक खबर के अनुसार शोधकर्ताओं ने बताया था कि यह कब्र इजिप्ट के मध्य साम्राज्य के शासक, दजेहुत्यनाख्त (Djehutynakht) की है। लेकिन समय के साथ आधुनिक वैज्ञनिकों ने कब्र को लूटा हुआ पाया। इसे प्राचीन समय में लूटा गया था। इस शोध के बारे में बताते हुए एक लेख के माध्यम से “दी न्यूयॉर्क टाइम्स” ने कहा कि लुटेरों ने खुद की पहचान छिपाने के लिए उस स्थान को आग के हवाले कर दिया था।

कब्र की सभी अन्य चीजें एक कोने  में पड़ी थीं और सिर दजेहुत्यनाख्त की ताबूत के ऊपर पड़ी हुई थी। सौ सालों से अधिक समय से शोधकर्ता विस्मय में थे और इस बात से राज़ी नहीं थे कि ममी का यह अवशेष दजेहुत्यनाख्त की है या फिर उनकी पत्नी का ।

टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, रहस्य की गहराइयों में जाने पर पता लगा कि ममी बनाने की प्रक्रिया के दौरान, मृतक को मृत्यु के बाद खाने और पीने में सक्षम करने के लिए जबड़े की कुछ हड्डियां और गाल को निकालकर सिर में कुछ बदलाव किया गया था। हो सकता है उन हड्डियों ने इसका संकेत दिया हो कि यह शरीर किसी पुरुष का है या महिला का ।

बचे हुए डीएनए का विश्लेषण किया गया। लेकिन, डीएनए को क्षति पहुंचाने वाले इस गर्म वातावरण में सदियों रहने वाले इजिप्ट की इन ममी से इससे पूर्व कभी भी डीएनए नहीं निकाला गया था। टाइम्स ने बताया कि इससे पूर्व डीएनए निकालने की कोशिश नाकामयाब रही थी।

फिर भी एफबीआई के शोधकर्ताओं ने इसमें लक्ष्य हासिल किया है। वे इस वजह से सफल हुए क्योंकि कब्र में पाए गए अन्य पुरावशेषों के साथ सिर को बॉस्टन म्यूजियम ऑफ फाइन आर्ट्स में रखा गया था। (आज के कानून के हिसाब से पुरावशेषों को इजिप्ट से बाहर रखना गैर कानूनी है)। वर्ष 2009 में उन्होंने 105 ग्राम दांत का धूल हासिल किया जिससे वे प्रारंभीक स्थिति की जानकारी हासिल कर सकें।इसके लिए उन्होंने प्राप्त सिर से चबाने वाले दांत में ड्रिल किया।

 धूल को एक तरल मिश्रण में उजागर करने के बाद जो कि डीएनए को कॉपी और परिवर्तित करता है, उन्होंने पाया कि यह किसी पुरुष के शरीर का हिस्सा है। अन्य शब्दों में कहें तो वह सिर ज्यादातर दजेहुत्यनाख्त से संबंधित लग रहा था न कि उनकी पत्नी का। डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सेक्यूरिटी की एक टीम, जो कि ऐसे ही दांतो की धूल पर काम कर रही थी ने भी बाद में इस परिणाम की पुष्टि की। दोनों ही मामलों में डीएनए क्षतिग्रस्त हो गया था, यह दर्शाते हुए कि यह प्राचीन ममी से प्राप्त हुआ है और ना कि आधुनिक समिश्रण है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds