भौतिक विज्ञानी और आविष्कारक, ब्रूनो बर्ग (Bruno Berge) ने एक खास तरह का लिक्विड ऑप्टिकल लेंस (liquid optical lens) बनाया है। इंवेंटर स्ट्रेटजी की एक खबर के अनुसार, ब्रूनों ने इसक निर्माण इलेक्ट्रो-वेटिंग तकनीकी का इस्तेमाल कर इसका निर्माण किया, जिसके तहत पानी की बूंदों को एक मेटल सब्स्ट्रेट (metal substrate) में एकत्रित किया जाता है और एक पतले इंसुलेटिंग परत से ढ़क दिया जाता है। जब धातु पर वोल्टेज लागू किया जाता है, तब पानी की बूंदों के कोण को संशोधित कर देता है।

इस लिक्विड लेंस में दो प्रकार के पदार्थ पानी और तेल शामिल है, जिनमें से एक कंड्कटर है और दूसरा इंसूलेटर। वोल्टेज में भिन्नता लिक्विड कर्वेचर को लिक्विड इंटरफेस में परिवर्तित करता है, जो कि लेंस के फोकल लेंथ को भी बदलता है।

Image result for liquid optical lens
Credit: PublicityReport

तरल का इस्तेमाल इसके निर्माण की लागत को कम करता है। इसमें किसी भी तरह की गतिशील हिस्से नहीं हैं और इलेक्ट्रिकल खपत भी बहुत कम है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds