वैज्ञानिकों ने स्पेन के कलाकार पैब्लो पिकासो (Pablo Picasso) की पेंटिंग के सतह के पीछे छुपे परिदृश्य का खुलासा किया है, जिसमें चोगा पहनी हुई महिला दिखती है, जिसे सफेद, नीले, भूरे और हरे रंग में रंगकर बनाया गया है। 1902 में बनी ऑइल पेंटिंग ला मिसेरेऊस एक्रोपी (La Misereuse accroupie- The Crouching Woman) (झुकी हुई महिला) पिकासा की एक खास कलाकृति है।

कनाडा (Canada) स्थित आर्ट गैलरी ऑफ ओंटारियो (Art Gallery of Ontario) के पास यह पेंटिंग है, और एक्स-रे रेडियोग्राफी (X-ray radiography) के माध्यम से लंबे समय बाद छुपे हुए परिदृश्य का राज़ खुला है। पिकासो द्वारा बनाए गए पेंटिंग में छिपी तस्वीर के बारे में जानने के लिए, नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी/आर्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ शिकागो सेंटर फॉर साइंटिफिक स्ट्डीज़ इन द आर्ट्स (Northwestern University/Art Institute of Chicago Center for Scientific Studies in the Arts(NU-ACCESS)) के शोधकर्ता और अमेरिका की नेशनल गैलरी ने नॉन इनवैसिव पोर्टेबल इमैजिंग तकनीक (non-invasive portable imaging techniques) का इस्तेमाल किया।

Credit: HT

शोधकर्ताओं ने पाया कि, ला मिसेरिऊस एक्रोपाई की अंतिम रचना में खुद के कुछ परिदृश्य का इस्तेमाल करते हुए, पिकासो ने एक अन्य कलाकार की पेंटिंग को दाहिने तरफ से 90 डिग्री घुमाने के बाद उसके ऊपर पेंटिंग की थी। उदाहरण के तौर पर, पिकासो ने महिला के पीछे लाइन ऑफ दी क्लिफ एड्ज (lines of the cliff edges) का इस्तेमाल किया। उन्होंने एक बड़ा रचनात्मक बदलाव भी किया।

X-ray fluorescence instrument set up for the scan of La Misereuse Accroupie
Credit: BBC

ला मिसेरिऊस एक्रोपाई का बारीकी से विश्लेषण करने के बाद, शोधकर्ताओं ने देखा कि अलग संरचना और अंतर्निहित रंग जो कि दरारों के माध्यम से बढ़ाए गए थे और वह वास्तविक रचना से बिल्कुल भी मेल नहीं खा रहे थे।

एक्स-रे रेडियोग्राफी नॉन इन्वैसिव, ला मिसेरिऊस एक्रोपाई में छुपी जानकारियों को उजागर करने वाला पहला अवजार है, इसने पिकासो की पेंटिंग के नीचे छिपे क्षैतिज परिदृश्य का खुलासा किया, जिसे बार्सेलोना (Barcelona) के एक अन्य पेंटर ने बनाया था, जिनकी पहचान अबतक छुपी हुई थी। नेशनल आर्ट गैलरी के सीनीयर इमैजिंग साइंटिस्ट. जॉन डेल्नेय (John Delaney) ने उसके बाद इंफ्रारेड रिफ्लेक्टेंस हाईपरस्पेक्ट्रल इमैजिंग (infrared reflectance hyperspectral imaging) के माध्यम से तस्वीर का अध्ययन किया।

Credit: www.livescience.com

उन्होंने पेंटिंग की सतह के नीचे एक हाथ और डिस्क पाया। डेल्नेय के इमैजिंग पद्दति पूर्व की रचनात्मक पेंट वाले तत्वों की बेहतर दृश्यता प्रदान करती है। हाथ को दूसरे स्थान पर स्थापित किए जाने के बारे में और जानकारी के लिए, अगली बार वैज्ञानिक एक्स-रे फ्लोरसेन्स ( X-ray fluorescence (XRF)) स्कैनर के माध्यम से बनी तस्वीरों के माध्यम से पेंटिंग की जांच करेंगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds