प्रत्‍येक वर्ष अप्रैल 22 के दिन, पूरे विश्व में “विश्व पृथ्वी दिवस” (World Earth Day) मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्‍य पर्यावरण सुरक्षा के बारे में लोगों के बीच जागरुकता फैलाना है।

Image result for World Earth Day pics
Credit: herald

पृथ्वी पर अक्सर उत्तरी ध्रुव की ठोस बर्फ़ का कई किलोमीटर तक पिघलना, सूर्य की पराबैंगनी किरणों को पृथ्वी तक आने से रोकने वाली ओज़ोन परत में छेद होना, भयंकर तूफ़ान, सुनामी और भी कई प्राकृतिक आपदाओं का होना, जो भी हो रहा है इन सबके लिए मनुष्य ही ज़िम्मेदार हैं। ग्लोबल वार्मिग के रूप में जो आज हमारे सामने हैं।

ये आपदाएँ पृथ्वी पर ऐसे ही होती रहीं तो वह दिन दूर नहीं जब पृथ्वी से जीव-जन्तु व वनस्पति का अस्तिव ही समाप्त हो जाएगा। जीव-जन्तु अंधे हो जाएंगे। लोगों की त्वचा झुलसने लगेगी और कैंसर रोगियों की संख्या बढ़ जाएगी। समुद्र का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती इलाके चपेट में आ जाएंगे।

Related image
Credit: iaspaper

इस दिवस की स्‍थापना सन 1970 में सीनेटर जेराल्ड नेल्सन द्वारा एक पर्यावरण शिक्षा के रूप में की गयी थी।इस दिन संकल्‍प लिया गया कि पृथ्वी को नष्ट होने से बचाया जायेगा और कोई ऐसा काम नहीं किया जायेगा जिससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचे। इस दिवस को मनाने का उद्देश्‍य पर्यावरण को बचाना है।अमेरिका में पृथ्वी दिवस को वृक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं जिसका मकसद धरा को हरा-भरा रखने से है दरअसल पृथ्‍वी पर होने वाले प्रदूषण के कारण हमारी पृथ्‍वी संकट में हैं।

Image result for World Earth Day pics
Credit: almanac

अब इसे 192 से अधिक देशों में प्रति वर्ष मनाया जाता है। यह तारीख उत्तरी गोलार्द्ध में वसंत और दक्षिणी गोलार्द्ध में शरद के मौसम में आती है।

संयुक्त राष्ट्र (United Nation) में पृथ्वी दिवस को हर साल मार्च एक्विनोक्स (वर्ष का वह समय जब दिन और रात बराबर होते हैं) पर मनाया जाता है, यह अक्सर मार्च 20 को होता है, यह एक परम्परा है जिसकी स्थापना शांति कार्यकर्ता जॉन मक्कोनेल (John McConnell) के द्वारा की गयी।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds