इन दो बाघ शावकों के साथ इस चिंपांज़ी की प्यारी तस्वीर आपके दिल को पिघला देगी! यह चिंपांज़ी इन शावकों के लिए ही केवल एक पालक माँ नहीं थी, बल्कि उसने तेंदुओं, शेरों और वनमानुषों को पालने में भी सहायता की है!

बंदर जैसा देखते हैं वैसा करते हैं। अंजना (Anjana) चिंपांज़ी, ने वह नकल करना प्रारंभ किया जो उसके मानव देखभालकर्ता, चाइना याॅर्क (China York) करते थे और इस तरह दक्षिण केरोलिना (South Carolina) में द इंस्टीट्यूट आॅफ ग्रेटली एंडेंजर्ड एंड रेयर स्पीशीज़ (टाईगर्स) (The Institute of Greatly Endangered and Rare Species (TIGERS)) में पशुओं की देखभाल करने और उन्हें पालने में सहायता करने लगी।

Credit: Facebook | Offical Wonderful Places

तेंदुओं, शेरों और वनमानुषों को पालने के पश्चात वह मित्र (Mitra) और शिव  (Shiva) नामक दो सफेद बेंगाॅल शावकों की ओर अग्रसर हुई।

“मैं तुम्हारी माँ बनूँगी… और तुम मेरी छोटी बिल्ली हो सकती हो!”

Credit: Facebook | Offical Wonderful Places

तूफान के पश्चात उनके अभयारण्य के जलमग्न होने से मित्र और शिव उनकी माँ से अलग हो गए थे। मानव देखभालकर्ता चाइना याॅर्क द्वारा उन्हें टाईगर्स में शीघ्र ही ले जाने के पश्चात, अंजना ने इन दो प्यारे शावकों पर दया की और मातृ प्रेम के साथ उन पर प्रेम की वर्षा करना प्रारंभ कर दिया।

और धीरे-धीरे, दयालु दिल के साथ, अंजना ने इन शावकों पर निंरतर ध्यान देना प्रारंभ कर दिया और उनकी कोखदायी माँ जैसी बन गई।

YouTube Screenshot | nollyvines

“उसने इस तथ्य को लिया कि मैं बच्चों की देखभाल कर रही हूँ इसलिए मैं उनको संरक्षण देना चाहती हूँ। वह अनिवार्य रूप से माता-सदृश नहीं है लेकिन वह उनके साथ वास्तव में सौम्य है,” चाइना ने द टेलीग्राफ (The Telegraph) को बताया।

“वह उन्हे प्यार करना पसंद करती है और देखती है कि वह क्या कर रहे हैं और यदि वे रो रहे हैं तो वह उन्हें शांत करने के लिए एक ऊँगली उनके होठों पर रख देती है जैसा कि आप एक छोटे बच्चे के साथ करेंगे।”

YouTube Screenshot | nollyvines

अंजना और बाघ शावकों के बीच के अविश्वसनीय बंधन इतने मजबूत हो गए हैं कि वे लगभग अविभाज्य थे।

अंजना जब मित्र और शिव के साथ खेलती है, गले लगाती है, आलिंगन करती है और बोतल से दूध पिलाती है तो उसके चेहरे पर एक बड़ी मुस्कुराहट चमकती है। ऐसा प्रतीत होता है कि मित्र और शिव अंजना के बालों वाले कंधे पर आराम करना पसंद करते हैं और कभी-कभी वे चिंपांज़ी के रोएं वाले गालों को चाटना चाहते हैं।

Credit: Facebook | Offical Wonderful Places

निश्चित रूप से, मित्र और शिव के लिए अंजना एक पालक माँ होने की आदर्श उम्मीदवार थी, चाइना के लिए एक अच्छी सहायक थी।

“सहानुभूति” अंतःप्रजातियों को अपनाने में एक अहम भूमिका निभाती है, “क्योंकि एक पशु स्वयं के दर्द, भूख और अकेलेपन को दूर करने के लिए दूसरे को अपना सकता है,” “Unlikely Friendships” पुस्तक के लेखक जेनी हाॅलैंड (Jenny Holland) ने National Geographic को बताया। निश्चित रूप से, अंजना का दिल बड़ा है!

Credit: Facebook | Offical Wonderful Places

प्यार के बीजों को फैलाने के लिए शाबाश अंजना!

वीडियो को देखेंः

Share

वीडियो