आज के दौर में तकनीकी ने इंसान की जिंदगी को और भी सुगम बना दिया है। घर की साफ-सफाई वाले रोबॉट से लेकर, चालक रहित कार, वाई-फाई से चलने वाले उपकरण आदि ने जीवन को बहुत ही आसान बना दिया है। लेकिन तकनीक की दुनिया में चीन जो नया प्रयोग कर रहा है, उससे अमेरिकी कंपनियों को सुरक्षा का खतरा पैदा हो सकता है।

एपोक टाइम्स ने एक अमेरिकी रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि, “चीन जिस आईओटी (IoT) अर्थात इंटरनेट ऑफ थिंग्स (internet of things) का इस्तेमाल करने जा रहा है, उससे हमारे देश की कुछ कंपनियों के लिए सुरक्षा का खतरा पैदा हो सकता है।”

बाजार अनुसंधान कंपनी, मार्केट्स एण्ड मार्केट्स की रिपोर्ट के अनुसार, हाल के वर्षों में चीन में आईओटी इंडस्ट्री का तेज़ी से विकास हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2017 में इस बाज़ार ने करीब एक ट्रिलियन यूआन की कमाई की थी। 

200 से भी अधिक पन्नों वाली इस रिपोर्ट  में कहा गया है कि कैसे चीनी कंपनियां और सरकार वैश्विक बाज़ार पर अाधिपत्य स्थापित करना चाहते हैं।रिपोर्ट में विस्तार से बताया गया है कि चीनी शासन ने आईओटी प्रौद्योगिकी के विकास को अपने राष्ट्रीय हितों के उद्देश्य के रूप में प्राथमिकता दी है और घरेलू उद्योग का समर्थन किया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह की तकनीकी चीन की आर्थिक स्थिति तो मज़बूत करती ही है, लेकिन इससे अमेरिकी उपभोक्ताओं, मिलिट्री इनोवेशन आदि की जासूसी किए जाने की भी संभावनाएं बढ़ जाती हैं। चीन की आईओटी कंपनियां चीनी सरकार और मिल्ट्री के साथ मिलकर भी काम करती हैं, ताकि सुरक्षा और सर्विलांस जैसी सेवाओं को और अधिक मज़बूत किया जा सके।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds