शुक्रवार 9 नवंबर 2018 को मुम्ब्रा ठाणे के रहनेवाले 2 भाई अपने चचेरे भाई के साथ बाहर अपने आँगन में खेल रहे थे। जब एक अजनबी ने उनमें  से सबसे छोटे बच्चे को चॉकलेट देकर लुभाने का प्रयास किया। लेकिन शुक्र है कि उसका 10 वर्षीय भाई उसके बचाव में आया और सफलतापूर्वक उसने अपहरण को विफल कर दिया। 

credit : livemirror (लाल रंग का शर्ट पहने हुए बच्चे ने बिच में खड़े छोटे भाई को बचाया )

 

मुंबई मिरर से बात करते हुए बच्चे के चाचा खुर्शीद वारसी ने कहा, हमारे क्षेत्र में विवाह समारोह के कारण भीड़ थी। लगभग 1:30 बजे तीन बच्चे अपने घर के बाहर खेल रहे थे। पहले वह महिला मेरे छोटे भतीजे के साथ खेलने का नाटक करने लगी और फिर उसे उठा कर वहाँ से जाने लगी।” 

उसके बाद मेरे 10 वर्षीय भतीजे ने उस महिला से सवाल किया। जिस पर उस महिला ने जवाब दिया कि वह चॉकलेट खरीदने जा रही है। उस बच्चे को महिला की बातें संदिग्ध लगीं उसने तुरंत अपने 12 वर्षीय भाई को परिवार वालों को सूचित करने को कहा कि एक महिला उनके छोटे भाई को साथ लेकर जा रही है। 

उस 10 वर्षीय बच्चे ने तुरंत उस महिला का पीछा किया जो तेजी से अपने कदम आगे बढ़ा रही थी। वह बच्चा भी उसके पीछे चल रहा था और उस महिला से पूछ रहा था कि वहउ सके भाई को कहाँ ले जा रही है। जब बच्चे ने उस महिला को पकड़ने की कोशिश की तो वह तेजी से भाग गयी।

Credit : Thebetterindia

वारसी ने आगे, कहा लड़के ने खतरे की सूचना आनेजाने वालो लोगों को दी और लोगों ने उस महिला को चेतावनी दी और रुकने को कहा।तब तक मेरे रिश्तेदार और पड़ोसी बच्चे को बचाने के लिए उस जगह पर पहुंच चुके थे। उस महिला ने भीड़ को देखा तो बच्चा छोड़ दिया और भाग गयी। यह पीछा करीब 8 मिनट तक जारी रहा।”

कक्षा 2 में पढ़ रहे इस छोटे बच्चे ने इस तरह से अपने छोटे भाई को अपहरणकर्ता के चंगुल से छुड़ाया। हालाँकि परिवार ने पुलिस स्टेशन में इसकी प्राथमिकी दर्ज नहीं की। लेकिन इस डरावनी घटना ने समाज के सुरक्षा उपायों की आवश्यकताओं को प्रकाश में लाया हैं। 

इस दस साल के बहादुर बच्चे के लिए किसी महिला अपहरणकर्ता के चंगुल से अपने भाई को छुड़ाना आसान काम नहीं था। इस बच्चे ने महिला अपहरणकर्ता से बातचीत जारी रखी और सही समय पर अपने भाई को परिवारवालों को सूचित करने को कहा। यह घटना उसकी सूझबूझ का परिचय देती है। 

Share
Categories: NTD विशेष

वीडियो

Ad will display in 09 seconds