वरिष्ठ चीनी राजनियक यांग जिची (Jiechi) ने पिछले सप्ताह के अंत में दक्षिण कोरिया (South Korea) का दौरा किया, जहां उन्होंने संयुक्त राज्य (U.S.) और उत्तरी कोरिया (North Korea) के बीच वार्ता में चीन (China) के समावेशन के अधिकार का दावा करते हुए कदम उठाए।

यांग दक्षिण कोरिया के संयुक्त राज्य की मिसाइल रक्षा प्रणाली की मेज़बानी करने पर पूर्व कार्यवाही उपायों से पीछे हट गए हैं, ताकि वह उत्तरी कोरिया की वार्ता के लिए समर्थन हासिल करने के लिए दक्षिण कोरिया का सहयोग प्राप्त कर सकें।

पिछले वर्ष, उत्तरी कोरिया के परमाणु हथियारों और प्राक्षेपिक मिसाइल के परीक्षण ने संयुक्त राज्य के साथ तनाव बढ़ाया और संयुक्त राज्य तक पहुंचने में सक्षम परमाणु हथियार विकसित करने के लिए उत्तरी कोरिया की धमकी के जवाब में अमेरिकी सैन्य कार्रवाई के डर को उठाया। 

पिछले गर्मियों में, संयुक्त राज्य ने उत्तरी कोरिया द्वारा मिसाइल के हमलों के संभावित खतरों को दूर करने के लिए दक्षिण कोरिया में टर्मिनल हाई एल्टिटय्टूड एरिया डिफेंस (Terminal High Altitude Area Defense) (THAAD) प्रणाली को तैनात किया था।

इस बात के भय से कि मिसाइल रक्षा प्रणाली की राडार क्षमताओं का इस्तेमाल चीनी हवाई क्षेत्र की निगरानी के लिए किया जा सकता है, चीनी शासन ने दक्षिण कोरिया पर व्यावसायिक प्रतिबंध और पूर्ण-पैमानों पर बहिष्कार के साथ, इस प्रणाली की मेज़बानी के लिए दक्षिण कोरिया को दंडित किया।

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ़ मिसाइल डिफेंस एजेंसी ( U.S. Department of Defense, Missile Defense Agency) द्वारा प्रदान की गई इस बिना तारीख की तस्वीर में, एक टर्मिनल हाई एल्टीट्यूड एरिया डिफेंस (erminal High Altitude Area Defense)  (THAAD) सेना वायुयान के सफल अवरोधन परीक्षण के दौरान प्रक्षेपण किया गया। (U.S. Department of Defense, Missile Defense Agency/Handout via Reuters/File Photo)

उत्तरी कोरिया और संयुक्त राज्य के बीच युध्दस्थिति कुछ कम हुई, जब फरवरी में दक्षिण कोरिया में आयोजित शीतकालीन ओलंपिक (Olympics) में हिस्सा लेने के लिए उत्तरी कोरिया ने एथलीटों को भेजा।

हाल ही के हफ्तों में, अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप (Donald Trump) और उत्तरी कोरिया के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने परमाणु मुक्त वार्ता के लिए मिलने की सहमति जताई है, दो विरोधी राष्ट्रों के मुखियाओं के बीच अभूतपूर्व बैठक। बैठक अनुमानित रूप से मई से कुछ समय पहले निर्धारित की गई है।

लेकिन जब वार्ता शुरू होने को है, तो चीन को इससे बाहर कर दिया गया है। निक्केई एशिया रिव्यु, (Nikkei Asia Review) एक जापानी प्रकाशन ने हाल ही में एक लेख में मूल्यांकन किया है कि पिछले हफ्ते बीजिंग (Beijing) में किम की यात्रा एक रणनीतिक कदम हैं चीन को संयुक्त राज्य की किसी भी सैन्य कार्रवाई के विरूद्ध बातचीत के लिए रजामंद करने के लिए—चीन को अपनी प्रतिष्ठा बनाए रखने का मौका मिलेगा, जब चीन, संयुक्त राज्य और उत्तरी कोरिया वार्ता में प्रमुख मध्यस्थ की भूमिका निभाते नज़र आएगा।

सत्ता का खेल

वरिष्ठ राजनयिक याँग के दक्षिण कोरिया के दौरे ने अमेरिका-उत्तरी कोरिया के बीच बातचीत के दौरान चीन के उद्देश्य को आगे बढ़ाया है।

ब्लू हाउस (Blue House)—जो दक्षिण कोरिया के वाइट हाउस के बराबर है, के मुख्य प्रवक्ता के अनुसार—यांग और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जेए-इन (Moon Jae-in) ने चीन की मुख्य भूमि चीनी यात्रा समूहों को दक्षिण कोरिया की यात्रा करने की सहमति दी है, साथ ही साथ शेनयांग (Shenyang) शहर, उत्तर-पूर्वी चीन, दक्षिण कोरियाई समूह, लौत्त्त (Lotte) द्वारा खोले गए, एक थीम पार्क के निर्माण का पुनरारंभ करने की इजाज़त देने पर विचार विमर्श किया गया।

दक्षिण कोरिया के संयुक्त राज्य को प्रायद्वीप पर टीएचएएडी (THAAD) की तैनाती करने की अनुमति देने के बाद से, यह दोनों देशों के बीच, पहले तनाव का गरमाया मुद्दा था। इस तंत्र को उत्तर कोरिया के हमले की स्थिति में दक्षिण कोरिया की रक्षा के लिए लगाया गया था, लेकिन चीनी शासन ने इसकी उपस्थिति का विरोध किया है।

पिछले वर्ष, चीनी शासन ने दक्षिण कोरिया की प्रतिकृति के तौर पर समूह यात्रा को प्रतिबंधित कर दिया था। शासन के दक्षिण कोरिया विरोधी प्रचार से प्रभावित होकर, चीनी उपभोक्ताओं ने भी दक्षिण कोरियाई उत्पादों का बहिष्कार करना शुरू किया।

मार्च 5, 2017 को चीन के उत्तर-पूर्वी जिलिन प्रांत (Jilin Province) में दक्षिण कोरियाई वस्तुओं के बहिष्कार की मांग करते निवासी।(STR/AFP/Getty Images)

फ़रवरी 2017 में, लौत्त्त ने टीएचएएडी (THAAD) प्रणाली की मेज़बानी करने के लिए अपने गोल्फ कोर्स की ज़मीन उपलब्ध कराने पर सहमति जताई थी—जिसके कारण यह शासन की कार्यवाही का प्रमुख निशाना बन गया था। कई महिनों के लिए, शेनयांग (Shenyang) थीम पार्क में लौत्त्त का निर्माण रोक दिया गया था।

अब, जैसे की यांग ने चीनी प्रतिद्वंद्विता की इन प्रतिवर्ती कार्रवाइयों को समाप्त करने की इच्छा जताई है, इसलिए, बदले में, चीन चाहता है कि दक्षिण कोरिया, उत्तरी कोरिया की वार्ता में शासन को शामिल होने की इजाज़त दे, रेडियो फ्री एशिया (Radio Free Asia) की एक रिपोर्ट के अनुसार।

बहु-पक्षीय

चीनी शासन ने अपनी मंशाएं स्पष्ट कर दी है। यांग की यात्रा के दौरान, उन्होंने वार्ता को आगे बढ़ने के लिए “सभी सम्बंधित पक्षों” की उपस्तिथि के महत्व पर बल दिया है।

“सभी पक्षों को मौके का फायदा उठाना चाहिए, साथ मिलकर काम करना चाहिए, शांत बैठकों को बढ़ावा देना चाहिए, जिससे दक्षिण और उत्तरी कोरिया के नेताओं और उत्तरी कोरिया और संयुक्त राज्य के बीच सकारात्मक परिणामों को प्राप्त किया जा सके, और प्रायद्वीप के मुद्दे पर एक ठोस राजनीतिक प्रस्ताव प्रक्रिया को दोबारा शुरू किया जा सके,” यांग ने कहा।

चीनी मीडिया ने इस बात को आगे बढ़ाया है। “चीन बहुपक्षीय बनने के लिए उत्तरी कोरिया के साथ वार्ता के लिए अपनी पूरी कोशिश करेगा, एक तरफ़ा क़रार के उलंघन से बचाव के लिए,” बीजिंग के समर्थक (Pro-Beijing) समाचार वेबसाइट (Duowei News) के लेख के अनुसार।

इसी बीच, अमेरिकी-चीन राजनियक सूत्रों का हवाला देते हुए, जापानी न्यूज़ एजेंसी कियोडो (Kyodo) ने बताया कि मार्च 9 को चीनी नेता शी जिनपिंग (Xi Jinping) के साथ ट्रंप ने फोन कॉल के दौरान, शी ने चारों राष्ट्रों—संयुक्त राज्य, चीन, उत्तरी कोरिया और दक्षिण कोरिया के साथ होकर—वार्ता और शांति समझौते का मसौदा तैयार करने का सुझाव दिया है।

इस रिपोर्ट में रॉयटर्स (Reuters) का योगदान रहा है।

The Epoch Times.   की अनुमति के साथ प्रकाशित

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds