सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) द्वारा 13,000 करोड़ रुपये से अधिक के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में दायर आरोप-पत्र में इलाहाबाद बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक उषा अनंतसुब्रह्मण्यम पर घोटाले में भूमिका के आरोप के बाद अब सरकार (वित्त मंत्रालय) ने उन्हें पद से हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

अनंतसुब्रह्मण्यम साल 2015 के अगस्त से 2017 के मई तक पीएनबी की एमडी और सीईओ रही हैं। सीबीआई ने उनसे इस घोटाले के संबंध में फरवरी में पूछताछ की थी। सोमवार को सीबीआई ने इस मामले में उनकी भूमिका को लेकर आरोप-पत्र दायर किया है।

वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस) ने इलाहाबाद बैंक के सरकारी प्रतिनिधि से अनंतसुब्रह्मण्यम से उनकी शक्तियां छीनने के लिए निदेशक मंडल के समक्ष प्रस्ताव रखने को कहा है।

उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव पर अंतिम निर्णय निदेशक मंडल लेगा। अधिकारी ने कहा कि पीएनबी के दो कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ भी इसी प्रकार की कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा, डीएफएस ने आरोपी अधिकारियों को पद से हटाने और बर्खास्त करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। वहीं, उनके खिलाफ विभागीय जांच भी अलग से जारी रहेगी।

इससे पहले वित्त मंत्रालय ने अनंतसुब्रह्मण्यम और 21 अन्य, जिनमें 11 बैंक अधिकारी शामिल हैं, के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया है। इस घोटाले के सूत्रधार और मुख्य आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी हैं, जो देश से फरार हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds