बुधवार को पाठ्यक्रम संबंधी एक कार्यक्रम में मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि अगले शिक्षण सत्र से कक्षा एक से लेकर 12वीं तक के पाठ्यक्रम में 10-12 फीसदी तक की कटौती हो सकती है। 

हिनदुस्तान टाइम्स के अनुसार, जावड़ेकर ने आगे कहा कि नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशन रीसर्च एण्ड ट्रेनिंग (NCERT) नया पाठ्यक्रम निर्धारित करने पर काम कर रही है, जो कि केंद्रीय माध्यम शिक्षा परिषद और एनसीईआरटी पाठ्यक्रम की पढ़ाई कराने वाले सभी स्टेट बोर्ड स्कूलों पर लागू होगा।

बता दें कि इससे पहले फरवरी माह में मंत्रालय ने कहा था कि अगले एक-दो सालों में एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम कम हो जाएगा। हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए, दक्षिणी दिल्ली के स्प्रिंगडेल्स स्कूल के प्रिंसिपल, अमिता वत्तल ने कहा, किताबों में दिए गए बहुत से अध्याय अब पुराने और अप्रासंगिक हो चुके हैं। इन किताबों की समीक्षा करना बहुत ही जरुरी है। लेकिन मुझे आशा है कि यह काम एक सलीके से किया जाएगा और एनसीईआरटी ज़रुरी पाठ्यक्रम को नहीं निकालेगा।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds