प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मई 29 से जून 2 तक इंडोनेशिया और सिंगापुर के आधिकारिक दौरे पर रहेंगे, जिस दौरान वे दोनों दक्षिणपूर्वी एशियाई देशों के शीर्ष नेतृत्व के साथ वार्ता करेंगे।

अधिकारियों ने गुरुवार को इसकी घोषणा की। यह मोदी की इंडोनेशिया की पहली व सिंगापुर की दूसरी आधिकारिक यात्रा होगी।

विदेश मंत्रालय की सचिव (पूर्व) प्रीति सरण ने यहां मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, मोदी का यह दौरा नई दिल्ली के एक्ट ईस्ट नीति के तहत दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के साथ भारत के प्रगाढ़ होते संबंध को दिखाता है।

सरण ने मोदी के कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया, वह 29 मई को इंडोनेशिया पहुंचेंगे और देश के राष्ट्रपति जोको वीडोडो के साथ अगले दिन जकार्ता में वार्ता करेंगे। उसके बाद वह म्यूजियम ल्यांग ल्यांग ऑफ जकार्ता और अहमदाबाद के पतंग संग्रहालय के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित पतंग महोत्सव का उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा मोदी वहां एक सीईओ फोरम व भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे।

उन्होंने कहा, इंडोनेशिया के बाद वे मई 31 को सिंगापुर जाएंगे, जहां वे उसी दिन इंडिया-सिंगापुर इंटरप्राइज एंड इन्नोवेशन एक्जिबिशन में हिस्सा लेंगे। इसके अलावा मोदी सिगापुर के शीर्ष 20 सीईओ के साथ गोलमेज सम्मेलन में भाग लेंगे।

सरण ने कहा, मोदी जून 1 को सिंगापुर की राष्ट्रपति हलीमा याकूब से मुलाकात करेंगे और प्रधानमंत्री ली ह्सेन लूंग के साथ बैठक करेंगे। इसके बाद वे प्रसिद्ध नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी का दौरा करेंगे। मोदी इसके बाद शांग्री-ला डॉयलॉग को संबोधित करेंगे और ट्रैक 1 वार्षिक अंतर सरकारी सुरक्षा फोरम में ऐसा करने वाले वे पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे।

प्रधानमंत्री उसके बाद जून 2 को महात्मा गांधी के एक प्लैक का अनावरण करेंगे और साथ ही कुछ सांस्कृतिक स्थलों का दौरा करेंगे। उसके बाद वे इंडियन हैरिटेज सेंटर का भी दौरा करेंगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds