दिल्ली सरकार ने सफाई कर्मचारियों को ऋण देकर खुद की नाला सफाई करने वाली मशीने खरीदकर उद्यमियों के रूप में बदलने की तैयारी की है।

हाथ से सफाई करने वाले कर्मचारियों के पुनर्वास का फैसला गुरुवार को दिल्ली के समाज कल्याण व एससी/एसटी मंत्री राजेंद्र पाल गौतम की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया। इसके लिए सरकार सफाई कर्मचारियों को विशेष डिजाइन वाली नाले की सफाई मशीनें खरीदने के लिए ऋण देगी।

समाज कल्याण मंत्रालय ने एक बयान में कहा, इस योजना से न सिर्फ सफाई कर्मचारियों/ हाथ से सफाई करने वालों को एक प्रतिष्ठित जीवन मिलेगा, बल्कि यह दिल्ली के लोगों के लिए एक सुरक्षित व साफ वातावरण भी बनाएगी।

इसमें कहा गया कि इसके तहत हाथ से सफाई करने वालों के आश्रितों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा, जिन्होंने नाले की सफाई के दौरान अपनी जान गवां दी।

शुरुआत में सरकार 200 मशीनों को किराए पर लेगी, जिसमें हर मशीन चार लोगों के लिए रोजगार पैदा करेगी। इस तरह से 800 नौकरियां पैदा होंगी।

भारतीय स्टेट बैंक सहित विभिन्न संस्थआनों से वित्त की व्यवस्था की गई है, जो प्रत्येक मशीन के मालिक को ऋण की 95 फीसदी कीमत देगी। मशीन के मालिक अगले पांच सालों में इसका कर्ज चुकाएंगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds