नवंबर 2017

सियोल मेट्रोपॉलिटन सरकार ने गुरुग्राम के साइबर हब में अपनी तरह के पहले सियोल-भारत मैत्री महोत्सव (सियोल-इंडिया फ्रैंडशिप फेस्टिवल) का आयोजन किया जिसमें दिल्ली-एनसीआर के बीच सांस्कृतिक सम्बन्धों और विनिमय को बढ़ावा देने पर जोर दिया गया। महोत्सव में सियोल की कला, संस्कृति से जुड़ी विभिन्न पहलुओं का प्रदर्शन किया गया। दो दिवसीय महोत्सव का उद्घाटन सियोल के मेयर पार्क वॉन-सून ने किया। महोत्सव के पहले दिन भारतीय दर्शकों को कोरियाई रंगारंग परफोर्मेन्स जैसे नान्ता और ताइक्वोंडो देखने का मौका मिला, वहीं कोरियाई मेहमानों को बॉलीवुड परफोर्मेन्स का लुत्फ उठाने का अवसर मिला। इसके साथ ही क्विज कार्यक्रम, वीडियो गैलेरी और डीजे आगंतुकों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहे।

दक्षिणी कोरिया की राजधानी सियोल आधुनिक गगनचुंबी इमारतों और हाई-टेक सबवे से युक्त बड़ा महानगर है, जो विश्व-हेरिटेज की सूची में मौजूद अपनी साईट्स के साथ अतीत के पन्नों से भी जुड़ा है। एशियाई पर्यटकों में लोकप्रिय यह शहर पिछले 50 सालों में आर्थिक दृष्टि से दुनिया का दसवां सबसे शक्तिशाली शहर तथा दूसरा सबसे बड़ा महानगर बन गया है।

इस अवसर पर सियोल के मेयर पार्क वॉन-सून ने कहा, “सियोल-भारत मैत्री महोत्सव ने दोनों देशों के बीच गहरे सांस्कृतिक संबंध बनाने में मदद की। महोत्सव ने बेहद मनोरंजक एवं इंटरैक्टिव तरीके से दिल्ली और सियोल के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा दिया। इस तरह के माध्यम दोनों देशों के दर्शकों को एक दूसरे से मिलने तथा सशक्त सम्बन्धत बनाने का मौका प्रदान करते हैं। हमें उम्मीद है कि हमारी यह पहल दोनों देशों के बीच दोस्ती को बढ़ावा देगी।”

सियोल भारतीय पर्यटकों के लिए आकर्षक गंतव्य के रूप में उभर रहा है। दक्षिणी कोरिया जाने वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। सियोल ओपन डेटा प्लाजा के अनुसार 2016 में सियोल आने वाले वाले भारतीय पर्यटकों की संख्या 152,811 थी और आने वाले समय में यह संख्या तेजी से बढ़ने की उम्मीद है। पॉप संस्कृति और बुद्धवाद का मिश्रण सियॉल अपनी विविध संस्कृति के साथ अन्तरराष्ट्रीय यात्रियों को अनूठे रोमांच का अहसास देता है।

— आईएएनएस

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds