गंगा की धारा को निर्मल और अविरल बनाए रखने के लिए केंद्र सरकार एक नई कार्य योजना की शुरुआत कर रही है, जिसके तहत गंगा के प्राकृतिक प्रवाह को बनाए रखने की तरफ ध्यान दिया जाएगा। बुधवार अक्टूबर 10 को केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गड़करी ने कैबिनेट मीटिंग की जिसमें गंगा एक्ट बनाए जाने को लेकर भी बातें हुईं।

पीआईबी के अनुसार, कैबिनेट को संबोधित करते हुए गड़करी ने कहा, ई-फ्लो के तहत गंगा की अविरलता को बरकरार रखने की तरफ ध्यान दिया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने गंगा की निर्मलता और अविरलता बरकरार रखने के लिए केंद्र सरकार द्वारा पास किए जाने वाले गंगा एक्ट के बारे में भी बात की और कहा कि जल्द ही गंगा एक्ट को सरकार पास करेगी।

ई-फ्लो के तहत गंगा के उद्गम स्थल से लेकर बंगाल की खाड़ी में समा जाने तक के रास्ते में उसकी अविरलता को प्राकृतिक रुप से बनाए रखने पर ज़ोर दिया जाएगा।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds