मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को कहा कि निर्माण कर्मियों के लाभ के लिए ओडिशा सरकार ने 814 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, श्रम का कल्याण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और निर्माण श्रमिक कल्याण योजना सरकार की प्रमुख योजना है। इस योजना के तहत भवन और अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड के तहत 11.52 लाख लाभार्थियों को 17 विभिन्न प्रकार के कल्याण लाभ दिए गए हैं।

पटनायक ने कहा कि सरकार श्रमिकों की गरिमा को कायम रखती है और मजदूर वर्ग को सलाम करती है जो अपने पसीने और कड़ी मेहनत से नए ओडिशा का निर्माण रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने श्रमिक सारथी, शुन श्रमिका और बीओसी श्रमिकों के लिए ऑनलाइन लाभ मॉड्यूल समेत श्रमिकों के लाभ के लिए कई पहल की शुरुआत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि बोलनगिर और नुआपाड़ा जिलों में टाटा ट्रस्ट और अन्य विभागों के सहयोग से एक पायलट परियोजना चलाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि इसके तहत इन जिलों में प्रवासी मजदूरों के करीब 9,000 बच्चों को मौसमी हॉस्टल में रखा जा रहा है और शिक्षा मुहैया कराई जा रही है ताकि उनके माता-पिता के प्रवास करने के बावजूद उनकी पढ़ाई जारी रहे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds