अमेरिकी सरकार चाहती है कि तालिबान अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया में शामिल हो। इसके लिए वे उन्हें कई तरह की पेशकश भी कर रही है जिसमें रोजगार के अवसर भी शामिल हैं। इसके साथ ही अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने उनके पुनर्वास की रूपरेखा भी तैयार करने की योजना बनाई है।

पाकिस्तान के समाचार पत्र द डॉन ने अपने एक रिपोर्ट में लिखा है कि जहाँ अमेरिकी रक्षा मंत्रालय विद्रोहियों के पुनर्वास हेतु रूपरेखा की योजना बना रही है वहीं अफगान शांति प्रक्रिया से तालिबान को जोड़ने के लिए अमेरिका, रूस, पाकिस्तान तथा विश्व के कुछ अन्य देश भी अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं।

नवभारत टाइम्स के अनुसार, इस हफ्ते कांग्रेस को भेजी गई पेंटागन की योजना का जिक्र करते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि, “तालिबान के कुछ विद्रोही हिंसा छोड़कर आत्मसमर्पण करने को तैयार हैं। लेकिन वे मुख्यधारा के साथ तभी जुड़ेंगे जब उनके पूरे परिवार की सुरक्षा का जिम्मा लिया जाएगा और साथ ही उन्हें रोजगार प्रदान किया जाएगा।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds