जॉर्डन (Jordan) के राजा अब्दुल्ला द्वितीय (Abdullah II) ने सोमवार को पूर्व शिक्षा मंत्री ओमार रज्जाज (Omar Razzaz) को नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया। रज्जाज की नियुक्ति राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के बाद हानी मुल्की (Hani Mulkee) द्वारा शीर्ष पद से इस्तीफा देने के बाद हुई है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की खबर के मुताबिक, देश भर में व्यापक प्रदर्शनों के बाद परेशान प्रधानमंत्री मुल्की ने राजा अब्दुल्ला द्वितीय को अपना इस्तीफा सौंप दिया। विवादास्पद आयकर सुधार विधेयक को लेकर सरकार की बर्खास्तगी की मांग कर रहे हजारों लोगों ने सड़कों पर प्रदर्शन किए, जिससे परेशान होकर मुल्की ने इस्तीफा दे दिया।

प्रदर्शक आयकर कानून को वापस लेने की मांग कर रहे थे। यह कानून 2016 में जॉर्डन और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के बीच हस्ताक्षरित 70 करोड़ डॉलर के विस्तारित फंड सुविधा कार्यक्रम के हिस्से के रूप में कई वित्तीय सुधारों का हिस्सा था।

विधेयक का मुख्य लक्ष्य कर संग्रह को बेहतर करना, कर चोरी पर लगाम लगाना और कर आय को बढ़ाना था, जिससे सालाना 30 करोड़ जॉर्डन दीनार की वृद्धि होने की संभावना है।

इससे पहले दिन में जॉर्डन संसद के 130 सीट वाले निचले सदन में से 57 सांसदों ने देश के राजा को मुल्की को बाहर करने के लिए एक पत्र पर हस्ताक्षर किए थे। उन्होंने अभूतपूर्व आम हड़ताल का जिक्र करते हुए कहा था कि मुल्की की नीतियों ने पिछले हफ्ते देश को विस्फोट की ओर धकेला।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds