फरवरी 23 को कंजर्वेटिव पॉलिटिकल एक्शन कॉन्फ्रेंस (Conservative Political Action Conference (CPAC)) की टिप्पणी में अमेरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप (Trump) ने अमेरिकी लागत पर चीन के उदय के लिए वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन (World Trade Organization (WTO)) को स्पष्ट रुप से दोषी ठहराया।

ट्रंप ने वहां उपस्थित हज़ारों लोगों से कहा, “वर्ल्ड ट्रेड सेंटर ने चीन को बनाया है। तब से चीन ने तेज़ी से तरक्की की है। और अब, पिछले साल, चीन से हमें करीब 500 अरब डॉलर का घाटा हुआ।”

ट्रंप ने कहा, मैं राष्ट्रपति शी (Xi) की बहुत इज़्ज़त करता हूं, लेकिन हम ऐसा नहीं कर सकतें। “हमें वो करना चाहिए, जो हमें करना चाहिए।”

ट्रंप ने कहा, “मेरे प्रबंधन में, आर्थिक समर्पण का युग समाप्त हो गया है।”

चीन के अलावा, ट्रंप ने मेक्सिको (Mexico) और  नॉर्थ अमेरिका फ्री ट्रेड अग्रिमेंट (North American Free Trade Agreement (NAFTA)) की भी आलोचना की। ट्रंप ने कहा,मेक्सिको से हमें $100 बिलियन का व्यापार घाटा हुआ है। यह आपको क्या बताता है? यह बताता है कि NAFTA ठीक नहीं है।

ट्रंप, चीन का अमेरिका और दुनिया के साथ आर्थिक रिश्ते को पूरी तरह से नकारात्मक रुप से देखते हैं, एक विचार जो रुढ़ि अनुसार अंतराष्ट्रीय व्यापार पर अर्थशास्त्रियों का अल्पमत रहा है, जो ज्यादातर मुफ्त व्यापार का समर्थन करते हैं। हालांकि, हाल के वर्षों में चीन के साथ व्यापार संबंधों के बारे में उनका नकारात्मक नज़रिया तेज़ी से बढ़ा है क्योंकि चीन की प्रगति पर शंका की बातें ज्यादा मुखर हो गई हैं।अमेरिकी व्यापार नीतियों को नयी आकृति प्रदान करने के लिए प्रशासन के प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए ट्रम्प ने कई लोगों को चुना।

पीटर नेवरो (Peter Navarro) जो हार्वर्ड में प्रशिश्रण प्राप्त अर्थशास्त्री (Harvard-trained economist) और इर्विन (Irvine) के यूनिवर्सिटी ऑफ कैलफोर्निया (University of California) में प्रोफेसर हैं, उन्हें ट्रंप ने ट्रंप प्रशासन के शुरुआत में नव निर्मित नेशनल ट्रेड काउंसिल (National Trade Council) का नेतृत्व करने के लिए नियुक्त किया है।

नवारो (Navarro) चीनी शासन और चीन के व्यापार प्रथाओं पर अपनी स्पष्ट आलोचना के लिए प्रसिद्ध हैं और उन्होंने लगातार तर्क दिया है कि अमेरिका और पश्चिमी देशों द्वारा अंतराष्ट्रीय व्यापार सिस्टम में चीन का दाखिला कराकर, चीनी शासन को अच्छी तरह से वित्तपोशित और संसाधित होने के योग्य बना दिया है, जबकि एक ही समय पर चीनी शासन तानाशाही है और सैन्य आक्रमण भी करता है।

ट्रंप प्रशासन ने चीन के अनुचित व्यापार प्रथाओं के खिलाफ कई कदम उठाए हैं। फरवरी 18 को अमेरिका के वाणिज्य सचिव विल्बर रोज (Wilbur Ross) ने स्टील और एल्यूमिनियम के निर्यात पर उच्च टैरिफ की सिफारिइश करते हुए एक रिपोर्ट जारी किया, बाजार में चीन और अन्य देशों के उत्पादों के उतरने को स्पष्ट रुप से अमेरिका राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा बताया।

राष्ट्रीय सुरक्षा में विशेषज्ञों की बढ़ती संख्या ने भी, चीन का, अमेरिका और विश्व के अन्य देशों के साथ आर्थिक संबंध को लेकर सवाल उठाए हैं।

टेस्टीमोनी (testimony) के वूड्रोव विल्सन स्कूल ऑफ प्रिन्सेटन विश्वविद्यालय (Woodrow Wilson School of Princeton University) के प्रोफेसर, आरोन फ्रिबर्ग (Aaron Friedberg) ने फरवरी 15 को हाउस सशस्त्र सेवा समिति (House Armed Services Committee) से पहले कहा, “इस वकप्रटुता के बावजूद, चीन के नेता व्यापार और निवेश को साधारण पारस्परिक सहयोग की बजाए सामरिक प्रतिस्पर्धा की जागीर के रुप में देखते हैं। इसके बहुत कम प्रमाण हैं कि वे अपने वर्तमान दृष्टिकोण के इरादे को छोड़ने का इरादा रखते हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds