श्रीलंका में राजनीति ऊथल-पुथल थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहले एक ही रात में प्रधानमंत्री का बदल जाना और अब महिंद्रा राजपक्षे का 50 वर्ष पुरानी अपनी पार्टी से नाता तोड़कर नई पार्टी में शामिल होना। उन्होंने अब श्रीलंका पीपल्स पार्टी ज्वाइन कर ली है।

नवभारत टाइम्स के अनुसार, पहले राष्ट्रपति मात्रिपाल सिरिसेना द्वारा महिंद्रा राजपक्षे को प्रधानमंत्री बना देना और अब महिंद्रा राजपक्षे का अपनी पुरानी पार्टी श्रीलंका फ्रीडम पार्टी जिसकी स्थापना उनके पिता ने वर्ष 1951 में की थी, उसको छोड़ कर अपने समर्थकों द्वारा बनाई गई पार्टी एसएलपीपी (SLPP) को ज्वाइन कर लेना। अब वे आगामी जनवरी 5 का चुनाव एसएलएफपी (SLFP) से नहीं बल्कि एसएलपीपी  से लड़ेंगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds