प्रदूषित बड़े शहरों में रहने वाले बच्चे और युवा व्यस्कों में अलज़ाइमर (Alzheimer) के विकास के जोखिम में काफी वृद्धि हुई है, एक अध्ययन से पता चला है।

अमेरिका में मोंटाना (Montana) विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने 11 महीने से 40 वर्ष तक की श्रेणी में मैक्सिको सिटी (Mexico City) के निवासियों के 203 शव-परीक्षाओं का अध्ययन किया।

जर्नल आॅफ एनवायरमेंटल रिसर्च (Journal of Environmental Research) में प्रकाशित अध्ययन के लिए, उन्होंने अल्ज़ाइमर के विकास का संकेत देने वाले दो असामान्य प्रोटीन को ज्ञात किया और एक वर्ष से भी कम उम्र के बच्चों में इस बीमारी के शुरूआती चरणों का पता लगाया।

“अल्ज़ाइमर के रोग की पहचान प्रदूषित वातावरण में बचपन से शुरू होती है, और हमें प्रभावी रोकथाम के उपायों को शीघ्र ही कार्यान्वित करना होगा,” मोन्टाना विश्वविद्यालय के काल्डेराॅन-गार्सिदुअनास (Calderon-Garciduenas) ने कहा।

शोधकर्ताओं ने पाया कि सूक्ष्म-अभिकण-पदार्थ प्रदूषण (PM 2.5) के आजीवन अनावरण के साथ युवा शहरी लोगों के दिमाग में दो असामान्य प्रोटीन – हाईपरफोसफोरिलेटेड टाऊ (hyperphosphorylated tau) और बीटा अमाइलाॅइड (beta amyloid) का स्तर बढ़ गया है।

उन्होंने एपोलिपोप्रोटीन ई (एपीओई4) ((APOE 4)) का भी पता लगाया, जो अलज़ाइमर के लिए एक जाना माना आनुवंशिक जोखिम कारक है, साथ ही साथ पीएम2.5 (PM2.5) के अस्वास्थ्यकर स्तरों के आजीवन संचयी अनावरण का कारक है, जो कि मानव बाल के व्यास से कम से कम 30 गुना छोटे होते हैं और अक्सर शहरी क्षेत्रों पर धूंध का कारण बनते हैं।

निष्कर्ष बताते हैं कि बचपन में ही अलज़ाइमर का प्रारम्भ हो जाता है।

शोधकर्ताओं ने मैक्सिको सिटी (Mexico City) में जिन लोगों की जांच की, उनमें से 99.5 प्रतिशत लोगों में इस रोग को पहचाना गया।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds