उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग-उन (Kim Jong Un) और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मंगलवार को उत्तर कोरिया को सुरक्षा गारंटी के बदले कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण पर प्रतिबद्धता जताई।

इसके साथ ही दोनों देशों ने नई संबंधों की शुरुआत की, जो इनके बीच परमाणु परीक्षण और सैन्य टकराव से उपजी कड़वाहट को समाप्त कर सकती है। दोनों नेताओं के बीच चार घंटे तक हुई ऐतिहासिक वार्ता के बाद ट्रंप ने एक संवादाता सम्मेलन में कहा, चेयरमैन किम ने कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण के प्रति प्रतिबद्धता जताई। किम उत्तर कोरिया में एक मिसाइल साइट को भी ध्वस्त करने पर सहमत हैं। हम अपने देशों के बीच एक नये अध्याय को लिखने के लिए तैयार हैं।

इससे पहले दिन में दोनों नेताओं ने सिंगापुर में रिसार्ट द्वीप सेंटोसा के कैपेला होटल में मुलाकात की और दोनों देशों ने नए संबंधों के विकास की दिशा में काम करने और क्षेत्र में “शांति, समृद्धि और सुरक्षा” के प्रति प्रतिबद्धता जताते हुए एक समझौते पर दस्तखत किया।

Credit: Twitter (Donald J. Trump)

समझौते में कहा गया है, राष्ट्रपति ट्रंप ने उत्तर कोरिया को सुरक्षा की गारंटी देने की प्रतिबद्धता जताई और चेयरमैन किम ने कोरिया प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निरत्रीकरण के प्रति अपनी दृढ़ प्रतिबद्धता को दोहराया।

ट्रंप ने कहा, मैं उत्तर कोरिया पर ‘जितना जल्दी हो सके’ परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए दबाव बनाऊंगा लेकिन इसमें लंबा वक्त लग सकता है। वैज्ञानिक रूप से आपको कुछ समय का इंतजार करना होता है..लेकिन जब आप प्रक्रिया आरंभ कर देते हैं तो इसका मतलब है कि यह हो रहा है।

ट्रंप ने कहा, प्रक्रिया बहुत जल्द शुरू हो जाएगी और “जब हम इस बात पर निश्चिंत हो जाएंगे कि परमाणु अब मुद्दा नहीं रहा”, तो हम (उत्तर कोरिया पर से) प्रतिबंध हटा लेंगे।

दोनों नेताओं ने सहमति जताई कि मंगलवार को हुआ यह सम्मेलन “एक युगांतकारी घटना” है और साथ ही दोनों नेताओं ने समझौते में वर्णित शर्तों को शीघ्रता और पूर्ण रूप से लागू करने पर सहमति जताई।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds