मानवी गलतियों को ख़त्म कर ट्रेनों को अधिक सुरक्षित बनाने के लिए भारतीय रेलवे के नागपुर डिवीजन ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) रोबोट बनाया है, जो अपनी कृत्रिम बुद्धिमत्ता के द्वारा रेलवे की यात्रा को और अधिक सुरक्षित बना देगा। साथ ही ट्रेनों की बेहतर तरीकों से जांच कर सकेगा। इस रोबोट का नाम “उस्ताद रोबोट”  रखा गया है। 

Image may contain: sky and outdoor
Credit : Facebook

यह रोबोट उच्च क्वालिटी के एचडी कैमरे से परिपूर्ण है, जो ट्रेनों के डिब्बों के भीतर जाकर उसका परीक्षण कर सकता है। साथ ही अंडर गियर्स की तस्वीरें और वीडियो बनाकर उन्हें मरम्मत और रख-रखाव के लिए इंजीनियर के पास भेज सकता है। 

वाईफाई के जरिये इंजीनियर इन वीडियो और तस्वीरों को ऑफिस में बैठकर बड़े स्क्रीन पर देख सकते हैं और इन्हें रिकॉर्ड भी कर सकते हैं। इस रोबोट को इंजीनियर द्वारा संचालित किया जाता है और उनके अनुसार इसके कैमरे को कभी भी घुमाया जा सकता है। 

ट्रेन के अंडर-गियर भागों के तंग या संकरे भागों पर कोई भी तकनीशियन बहुत ही मुश्किल से पहुंच पाता है। ऐसे में इस रोबोट की मदद से ट्रेन के इन क्षेत्रों को आसानी से देखा जा सकता है। इस रोबोट में एक एलइडी लाइट लगी है जो ख़राब रोशनी में भी काम कर सकेगी। 

“उस्ताद रोबोट” को बनाने में करीब चार महीने का समय लगा और इसे बनाने के लिए करीब 2 लाख का खर्च आया है। इसमें लगा कैमरा 360 डिग्री होरिजेंटल और 120 डिग्री वर्टिकल में घूम सकता है। रेलवे अब देशभर के सभी जोन में उस्ताद के इस्तेमाल पर विचार कर रही है। 

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds