अमेरिकी मूल के माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक और समाजसेवी बिल गेट्स भारत में समाजिक कार्य को लेकर अक्सर काम करते रहते हैं। यहाँ तक उन्होंने एक गांव भी गोद लिया है। वे अशिक्षा और कुपोषण जैसी मूल समस्याओं पर काम करते हैं। हाल ही में उन्होंने भारत में बच्चों के स्वास्थ्य पर संतोष जताते हुए कहा कि उनके स्वास्थ्य अब बदल रहे है।

 

 

View this post on Instagram

 

40% of world’s extremely poor people will live in Nigeria, DRC – Bill Gates A new report has shown that 40 per cent of the world’s extremely poor people will reside in Nigeria and the Democratic Republic of Congo by the year 2050. According to a report by the philanthropic foundation of Bill Gates, rapid population growth in some of Africa’s poorest countries could put at risk future progress towards reducing global poverty and improving health. Demographic trends show a billion people have lifted themselves out of poverty in the past 20 years, the report found. But swiftly expanding populations, particularly in parts of Africa, could halt the decline in the number of extremely poor people in the world, and it may even start to rise. “Population growth in Africa is a challenge,” Gates told reporters in a telephone briefing about the report’s findings. It found that poverty in Africa is increasingly concentrated in a few countries, which also have among the fastest-growing populations in the world. By 2050, it projected, more than 40 percent of world’s extremely poor people will live in just two countries: Democratic Republic of the Congo and Nigeria. #poverty #population #billgates #goalkeepers #goalkeepersreport #drc #nigeria #africa #contraceptives #malaria #extremepoverty #hiv #sanitation #human #un #billandmelindagates #billandmmelindagatesfoundation www.chronicle.ng

A post shared by Chronicle NG (@chronicle.ng) on

नवभारत टाइम्स की एक खबर के अनुसार, बिल गेट्स ने कहा कि बीतते दिनों के साथ भारत में बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार आ रहा है लेकिन अभी भी केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा बजट बढ़ाने की जरूरत है।

स्वास्थ्य और शिक्षा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जब उन्होंने बिहार और उत्तर प्रदेश में काम शुरू किया उस वक्त वहाँ टीकाकरण की पहुंच 40 प्रतिशत से भी नीचे थी जिसके चलते हजारों की संख्या में मौतें हो रही थीं। भारत में काफी चीजों में सुधार हो रहा है लेकिन इसके बावजूद भी कुपोषण की समस्या के समाधान में भारत काफी पीछे है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds