भारत ने सोमवार को ओडिशा तट के पास डॉ अब्दुल कलाम द्वीप से हथियार ले जाने में सक्षम बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया। यह मिसाइल 5000 किलोमीटर की दूरी तक लक्ष्य भेद सकने में सक्षम है। रक्षा सूत्रों के अनुसार सतह से सतह तक मार कर सकने वाली भारत में विकसित इस मिसाइल का यह सातवां परीक्षण है। 

Credit : Twitter

अग्नि 5 तीन चरणों में मार करने वाली मिसाइल है जो 17 मीटर लम्बी और दो मीटर चौड़ी है। यह मिसाइल 1.5 टन तक हथियार ले जाने में सक्षम है। वहीं यह मिसाइल दिशा निदेर्शन, विस्फोटक ले जाने वाले शीर्ष हिस्से और इंजन की तुलना में बाकी मिसाइलों से ज्यादा उन्नत है। 

साथ ही 5000 किलोमीटर तक लक्ष्य भेदने के अलावा उच्च विश्वसनीयता, लम्बी शेल्फ लाइफ, कम रखरखाव और ज्यादा गतिशीलता इसे और भी खास बनाती है। इस मिसाइल को डीआरडीओ द्वारा विकसित किया गया है। यह अग्नि सीरीज की मिसाइल है। 

अग्नि 5 का पहला परीक्षण 19 अप्रैल 2012, दूसरा 15 सितम्बर 2013, तीसरा 31 जनवरी 2015, चौथा 26 दिसंबर 2016, पांचवां इस साल 18 जनवरी और छठवां 3 जून को किया गया था। 

Credit : Twitter

मिसाइल परीक्षण के दौरान इस परियोजना से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी और वैज्ञानिक मौजूद थे। इस मिसाइल ने अब्दुल कलाम द्वीप से मिसाइल छोड़े जाने के बाद हिन्द महासागर में अचूक निशाना लगाया। 

सूत्रों के अनुसार भारत के पास जो अग्नि-1, अग्नि-2 और अग्नि-3 मिसाइल हैं, उन्हें पाकिस्तानी खतरे को ध्यान में रखकर बनाया गया हैं वहीं अग्नि-4 और अग्नि-5 मिसाइल को चीन को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है।

Share

वीडियो