चिंता के इलाज बाद सिर्फ 20 फीसदी युवा लंबे समय तक सामान्य जीवन जी पाते हैं। इसमें इसका कोई मतलब नहीं है कि उन्हें किस तरह का इलाज दिया गया है।

इस शोध में ऐसे 319 युवाओं को शामिल किया गया, जो अलगाव, सामाजिक या सामान्य चिंता के विकारों से ग्रस्त थे। इनकी आयु 10 से 25 साल के बीच रही। यह शोध “अमेरिकन एकेडमी ऑफ चाइल्ड एंड एडोलसेंट साइकेट्री” (American Academy of Child and Adolescent Psychiatry) नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

Hustle And Bustle, Woman, Face, Arrows, Stress
Credit: Pixabay

अमेरिका के कनेक्टिकट विश्वविद्यालय से संबद्ध शोध की सह लेखक गोल्डा गिंसबर्ग (Golda Ginsburg) ने कहा, जब आप पाते हैं कि हमारे द्वारा दिया गए बेहतरीन इलाज का कुछ बच्चों पर असर नहीं पड़ा तो यह हतोत्साहित करता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि नियमित मानसिक स्वास्थ्य की जांच वर्तमान मॉडल की तुलना में चिंता का इलाज करने का बेहतर तरीका है।

इस शोध के लिए प्रतिभागियों को साक्ष्य आधारित इलाज दिया गया। इसमें स्टरलाइन या संज्ञानात्मक व्यावहारिक चिकित्सा दी गई। इसके बाद शोधकर्ताओं ने हर साल चार साल तक इनका परीक्षण किया। लगातार जांच से चिंता के स्तर का आंकलन किया गया, लेकिन इलाज नहीं दिया गया।

Hustle And Bustle, Woman, Face, Hours, Timer, Arrows
Credit: Pixabay

शोधकर्ताओं ने कहा कि अन्य अध्ययनों में एक, दो, पांच या 10 सालों पर असर की सिर्फ एक जांच की गई। यह पहला अध्ययन है, जिसमें युवाओं के चिंता का इलाज हर साल लगातार चाल साल तक किया गया।

अनवरत जांच करते रहने का मतलब है कि शोधकर्ता एक बार ठीक होकर फिर बीमार पड़ने वाले मरीजों के साथ चिंताग्रस्त रहने वाले व सही अवस्था में रहने वालों की पहचान कर सकते हैं।

इसमें शोधकर्ताओं ने पाया कि आधे मरीज एक बार ठीक होने के बाद फिर से बीमार पड़ गए।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds