भारत में सार्वजनिक वाई-फाई से 2019 तक चार करोड़ नए कनेक्टेड उपयोगकर्ता जुड़ सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप देश के सकल घरेलू उत्पाद(जीडीपी) में कम से कम 20 अरब डॉलर की राशि जुड़ेगी।

गूगल और वैश्विक रिसर्च कंपनी एनालिसिस मेसन ने बुधवार को अपनी संयुक्त रपट में यह जानकारी दी। रपट में बताया गया है कि सार्वजनिक वाई-फाई भारत में सार्वजनिक कनेक्टिविटी और डिजिटल समावेशन को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

Wifi, Access, Internet, Logo, Network, Point, Wireless
प्रतिकात्मक तस्वीर

गूगल इंडिया, नैक्स्ट बिलियन यूजर्स, पार्टनरशिप इंडिया के निदेशक के. सूरी ने कहा, भारत ‘नैक्स्ट बिलियन यूजर्स’ के लिए एक बड़ा बाजार है। इन उपयोगकर्ताओं को जोड़ने के लिए वाई-फाई एक मुख्य केंद्रित क्षेत्र है।

सूरी ने इस रपट को जारी करते हुए कहा, हमने पाया है कि अगर उपयोगकर्ताओं को तेज और मुफ्त इंटरनेट सेवा दी जाए, तो यह उनके जीवन और संपूर्ण आर्थिक परिदृश्य में महत्वपूर्ण बदलाव ला सकता है।

गूगल ने हाल ही में रेलटेल और भारतीय रेलवे के साथ मिलकर रेलवे स्टेशनों पर सार्वजनिक वाई-फाई उपलब्ध करवाया है। यह सुविधा 400 स्टेशनों पर दी गई है और इसका फायदा 76 लाख लोग उठा रहे हैं।

Social Media, Social, Media, Www, Icons, Icon
प्रतिकात्मक तस्वीर

शोध के अनुसार, सार्वजनिक वाई-फाई से 2019 तक चार करोड़ लोग इंटरनेट से जुड़ जाएंगे और जिसका फायदा जीडीपी में होगा। 2017-19 में इससे जीडीपी में लगभग 20 अरब डॉलर का फायदा होगा और उसके बाद प्रत्येक वर्ष कम से कम 10 अरब डॉलर का फायदा होगा।

एनालिसिस मेसन के मुख्य सलाहकार अश्विंदर सेठी ने कहा, 2019 तक, हाई-स्पीड सार्वजनिक वाई-फाई के इस्तेमाल के अनुभव के बाद, 2019 तक 10 करोड़ प्रयोगकर्ता वार्षिक रूप से तीन अरब डॉलर मोबाइल ब्राडबैंड और हैंडसेट में अतिरिक्त खर्चेगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds