भारतीय बैंकिंग प्रणाली की मजबूती के लिए एक और कदम उठाते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक में अतिरिक्त शेयर पूंजी के रूप में 24,000 करोड़ रुपये प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को मंजूरी दे दी। वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने यह घोषणा की है।

मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं को इसकी जानकारी देते हुए गोयल ने कहा कि एचडीएफसी बैंक में यह विदेशी निवेश 74 फीसदी के अनिवार्य दायरे में ही होगा।

 

उन्होंने कहा, इस निवेश के बावजूद विदेशी पूंजी 74 फीसदी की सीमा में ही रहेगी। वर्तमान में इस बैंक में विदेशी इक्विटी होल्डिंग 72.64 फीसदी है, जो इस निवेश से बढ़कर 74 फीसदी हो जाएगी।

गोयल ने यह भी कहा कि इस तरीके से बैंक के पूंजी पर्याप्तता अनुपात को मजबूती मिलेगी और बैंक ने इस पूंजी से अपने ब्रांच नेटवर्क के साथ ही डिजिटल बैंकिंग के पहुंच के विस्तार का इरादा जताया है।

वहीं, दूसरी तरफ सरकारी बैंकों की लाभप्रदता हाल के दिनों में बुरी तरह से प्रभावित हुई है क्योंकि उन्हें फंसे हुए कर्जो (एनपीए) के लिए प्रावधान (भरपाई) करना पड़ रहा है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds