पाकिस्तान अभी अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। उनकी अर्थव्यवस्था बिल्कुल चरमराई हुई है। आईएमएफ द्वारा पाकिस्तान को दिए जाने वाले ऋण पर जो शर्तें बताई गईं हैं उसे देखते हुए पाकिस्तान अपनी निर्भरता को आईएमएफ के ऊपर से कम करना चाह रहा था और ऐसे में चीन पाकिस्तान की मदद के लिए आगे आया है।

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

7th President of the People’s Republic of China, Xi Jinping. #ChinaToday #chinapresident #xijinping #china #chinese

A post shared by Travelchina (@china2travel) on

नवभारत टाइम्स के अनुसार, चीन का कहना है कि वित्तीय संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को अब वे लोन नहीं देंगे बल्कि कई क्षेत्र में निवेश करेंगे और व्यवसाय की स्थापना करेंगे।

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Prime Minister Imran Khan convened a meeting discussing promotion of legal remittances channels and controlling measures of havala/hundi at Islamabad today 🇵🇰🇵🇰 #PMIK

A post shared by Imran Khan (@imrankhan.pti) on

ज्ञात है कि पिछले महीने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने चीन का दौरा किया था ताकि वे चीन से कुछ मदद प्राप्त कर सकें। वहाँ से लौटने के बाद उनके मंत्रीमंडल ने उनकी यात्रा को सफल बताया। एक हफ्ते के बाद पाकिस्तानी वित्त मंत्री असद उमरे ने घोषणा करते हुए कहा कि उन्होंने भुगतान संकट को प्रभावशाली ढंग से सुधार लिया है।

मीडिया से बातचीत करते हुए उमर ने कहा कि 12 बिलियन डॉलर के वित्त की आवश्यकता थी जिसमें से 6 बिलियन सऊदी अरब से आए हैं और बाकी का हिस्सा चीन देगा। इस हेतु पाक का एक प्रतिनिधिमंडल चीन का दौरा करेगा।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds