राज्यसभा के 58 सीटों के लिए मार्च 23 को चुनाव होने वाला है और इसके लिए सभी प्रमुख पार्टियों ने अपने-अपने उम्मीद्वारों की सूची भी जारी कर दी है। इस सूची में करोड़ों की संपत्ति रखने वाले उम्मीद्वार भी हैं, तो वहीं दूसरी ओर कुछ उम्मीद्वार ऐसे भी हैं जिनकी संपत्ति महज कुछ लाख तक ही सीमित है। कुछ ऐसे भी हैं जो शिक्षा के मामले में काफी पिछड़े हैं, तो वहीं इस चुनावी होड़ में पार्टियों ने ऐसे लोगों को भी उम्मीद्वार घोषित कर दिया है जिनका आपराधिक ग्राफ बहुत ऊंचा है।

चुंकि, भविष्य में इन्हीं उम्मीद्वारों में से जीतने वाले शख्स के माध्यम से आपकी आवाज़ सरकार तक पहुंचेगी, ऐसे में यह जानना भी बेहद जरुरी है कि आपका प्रतिनिधित्व करने वाले शख्स का अबतक का रिकॉर्ड कैसा है? नेशनल इलेक्शन वॉच (NEW) और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफोर्म (ADR) ने सभी 64 में से 63 उम्मीद्वारों के शपथ-पत्र का अवलोकन किया है और उनकी संपत्ति से लेकर शिक्षा और आपराधिक रिकॉर्ड सब कुछ आपके समक्ष रखा है। ADR और NEW द्वारा जारी की गई रिपोर्ट इन उम्मीद्वारों के बारे में क्या कुछ कहती है, चलिए एक नज़र उस पर भी डाल लेते हैं…

आपराधिक पृष्ठभूमि

Credit: ADR

मार्च 23 को होने वाले 58 राज्यसभा चुनाव के लिए 16 राज्यों से कुल 64 उम्मीद्वार अपनी किस्मत आजमाने के लिए खड़े हुए हैं। जिनमें से देश की दो सबसे बड़ी पार्टियां, भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के सबसे ज्यादा उम्मीद्वार हैं, जिनकी संख्या क्रमशः 29 और 11 है।

Credit: ADR

एडीआर और एनईडब्ल्यू की रिपोर्ट बताती है कि इस चुनावी अखाड़े में उतरे 100 में से 25 प्रतिशत उम्मीद्वार ऐसे हैं जिनके उपर आपराधिक मामले दर्ज है, जबकि 13 प्रतिशत उम्मीद्वार ऐसे भी हैं जिनके उपर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज है। सबसे ज्यादा आपराधिक मामले वाले उम्मीद्वारों के साथ बीजेपी पहले स्थान पर है, इसके कुल 11 उम्मीद्वार ऐसे हैं जिन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। तो वहीं चार आपराधिक उम्मीद्वारों के साथ कांग्रेस इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर है।

संपत्ति

Credit: ADR

उम्मीद्वारों द्वारा शपथ-पत्र के आधार पर तैयार किए गए रिपोर्ट के आधार पर देखा जाए तो कुल 63 उम्मीद्वारों में से 55 उम्मीद्वारों के पास करोड़ों की चल-अचल संपत्ति है। इनमें भी सबसे ज्यादा उम्मीद्वार बीजेपी से ही हैं, जिनकी संख्या 26 है। 10 करोड़पति उम्मीद्वारों के साथ कांग्रेस यहां भी दूसरे स्थान पर है।

Credit: ADR

हालांकि, इन करोड़पति उम्मीद्वारों की भीड़ में कुछ उम्मीद्वार ऐसे भी हैं, जिनकी संपत्ति महज कुछ लाख तक ही सीमित है। करीब पांच लाख की संपत्ति के साथ बीजेडी के अच्चुयतानंदा सामंता  (Achyutananda Samananta) ऐसे उम्मीद्वार हैं, जिनकी संपत्ति सबसे कम है।

शिक्षा

Credit: ADR

जनता के प्रतिनिधि के तौर पर राज्यसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने पहुंचे उम्मीद्वारों में 11 प्रतिशत उम्मीद्वार ऐसे हैं जो मात्र 10वीं या 12वीं तक ही पढ़े हैं, जबकि 87 प्रतिशत जिन्होंने स्नातक या उससे आगे की पढ़ाई की है।

किन राज्यों में कितनी रिक्तियां हैं?

राज्य सीट
उत्तर प्रदेश 10
महाराष्ट्र 6
बिहार 6
पश्चिम बंगाल 5
मध्य प्रदेश 5
गुजरात 4
कर्नाटक 4
अंध्र प्रदेश 3
तेलंगाना 3
राजस्थान 3
ओडिशा 3
झारखंड 2
छत्तिसगढ़ 1
हरियाणा 1
हिमाचल प्रदेश 1
उत्तराखंड 1

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds