दूर तलक फैली हरियाली, पंख फैलाए गगन चूमने को आतुर पक्षी और पेड़ों पर कलरव करते वो नन्हें परिंदें किसी भी प्रकार के टेंशन को छूमंतर करने के लिए काफी हैं। देखा जाए तो पिछले कुछ सालों से नभचरों की ये दुनिया इंसानों को कुछ ज्यादा ही आकर्षित कर रही है।पक्षी अभ्यारण्य में स्वच्छंद उड़ते परिंदे न केवल देखने में रोचक लगते हैं, बल्कि उनके रंग-बिरंगे पंख आपके मन को भी तरोताज़ा कर देते हैं।

वैसे, यदि आप चिड़ियों को करीब से निहारना चाहते हैं या फिर आंखें बंद कर उनके कलरव की धुन को दिल तक पहुंचाना चाहते हैं, तो पड़ोसी देश नेपाल के परिंदों की ये दुनिया पंख फैलाकर आपको निमंत्रण दे रही है…

1. कोशी टाप्पू वन्य जीव अभ्यारण्य!

Image result for bird watching in nepal
Credit:Yeti Holiday

लैंडलॉक कंट्री के नाम से मशहूर नेपाल में 850 से भी अधिक पक्षियों की प्रजातियों ने यहाँ अपना घरौंदा बनाया है, खासकर पूर्वी तराई में स्थित कोशी टाप्पू वन्य जीव अभ्यारण्य (Koshi Tappu Wildlife Reserve) इन परिंदों को कुछ ज्यादा ही रास आता है।

Credit: Wikipedia

68 स्क्वायर कि.मी. क्षेत्र में फैले इस अभ्यारण्य में पक्षियों की करीब 400 प्रजातियां पाईं जाती हैं। यहां आप वाटरकॉक, फिश ईगल, इंडियन नाइट जार और परिनिया जैसी पक्षियों की प्रजातियों को देख सकते हैं।

2. काठमांडु वैली!

Related image
Credit: himalayastrek

नागार्जुन और गोदावरी पहाड़ियों से घिरी इस वैली में नेपाल में पाई जाने वाली ज्यादातर पक्षियों की प्रजातियों का वास है।  ये पहाड़ियां पक्षियों के दीदार के लिए सर्वोत्तम स्थानों में से एक मानी जाती हैं।

Image result for kathmandu valley Birds
Credit: Trekking in nepal

बेहद शांत और प्राकृतिक रमणियता से परिपूर्ण यह वैली रंग-बिरंगे फूलों को भी अपनी गोद में सहेजे हुए है। यहां न केवल कलरव करते पक्षी ही आपका मनोरंजन करेंगे, बल्कि फूलों से अाती भीनी खुश्बू भी आपके मन को खुशनुमा कर देगी।

3. गोदावरी बोटैनिकल गार्डेन!

Image result for godavari botanical garden kathmandu nepal
Credit: Fotostock

समुद्रतल से 5000 फीट की ऊंचाई पर गोदावरी बोटैनिकल गार्डेन को सपनों का बगीचा कहकर परिभाषित किया जाता है। यह स्थान जितना पक्षियों के प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है उतना ही अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए भी मशहूर है।

Image result for Birds Found in nepal
Credit: MountainTrek

करीब 59 एकड़ में फैले इस गार्डेन में आपको पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां तो मिलेंगी ही, साथ ही कुछ लुप्त प्रायः पेड़-पौधों को भी इस गार्डेन ने सहेज रखा है। इस प्राकृतिक सुंदरता के बीच आपको कुछ शर्मिले पक्षी भी देखने को मिल जाएंगे, जिन्हें कैमरे में कैद करना थोड़ा मुश्किल काम होता है।

4. चितवन नेशनल पार्क!

Credit: Wikipedia

932 स्कवायर कि.मी. में फैला यह नेशनल पार्क नेपाल का पहला नेशनल पार्क है। यहां पक्षियों की करीब 500 प्रजातियां पाई जाती हैं। इसके अलावा वन्य जीवों की 700 से भी अधिक प्रजातियां भी यहां पाई जाती हैं। हरे-भरे मैदानों से परिपूर्ण यह नेशनल पार्क लुप्त प्रायः प्रजाति बंगाल फ्लोरिसेंस के लिए महत्वपूर्ण स्थान है।

Related image
Credit:Wikipedia

यहां पाए जाने वाले पक्षियों के अतिरिक्त वसंत ऋृतु में यहां 160 से भी अधिक पक्षियों की प्रजातियां उड़ान भर कर आती हैं जिसमें इस्टर्न इंपीरियल ईगल, ग्रेटर स्पोटेड ईगल और फिश ईगल जैसी प्रजातियां शामिल हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds