एक समय था जब रियासतों में राजा-महाराजा आवश्कतानुसार किलों का निर्माण करते थे। मुंबई में भी तत्कालीन शासकों ने सुरक्षा के लिए कई किलों का निर्माण करवाया था। इनमें से कुछ का नामोनिशान मिट गया लेकिन कुछ किले आज भी मौजूद हैं। यहाँ आज हम आपको मुंबई के कुछ ऐसे ही ऐतिहासिक किलों के बारे में बतायेंगे, जिन्हें आप ज़रूर देखना चाहेंगे।

1. बांद्रा किला

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by New Guy (@airing_expressions) on

बांद्रा किला मुंबई में पुर्तगाली शासन के अवशेषों में से एक है। बांद्रा किले का निर्माण माहिम बे की देख-रेख के लिए हुआ था। बांद्रा किला, महाराष्ट्र के समुद्र किलों में से एक है, जिसका उपयोग मुंबई हार्बर में प्रवेश करने के लिए समुद्री मार्ग के चेक-प्वाइंट के रूप में किया गया था। आज,यह मुंबई में एक पिकनिक स्पॉट और फिल्म शूटिंग स्थान के रूप में जाना जाता है।

2. वर्ली किला

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Raiba Anjali Dileep (@tumcha_raiba) on

वर्ली किला मुम्बई में ब्रिटिश हुकूमत द्वारा बनाया गया था। काफ़ी समय तक इसे पुर्तगालियों का निर्माण माना जाता रहा था, परंतु यह किला असल में ब्रिटिश ने 1675 में बनवाया था। यह किला वर्ली पहाड़ी पर बना था, माहिम की खाड़ी पर नजर रखने के लिए, जब मुम्बई शहर सिर्फ सात द्वीपों से बना था। यह दुश्मन के जहाजों और डाकुओं पर नजर रखने के लिए बनाया गया था।

3. वसई किला 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Sahyadri Heritage (@sahyadri_heritage) on

बसेन दुर्ग जिसे फोर्ट बसेन या वसई किला भी कहते हैं, महाराष्ट्र के पालघर जिले के वसई गांव में स्थित एक विशाल दुर्ग है। वसई किला एक राष्ट्रीय महत्व का स्मारक है और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित है। बसेन नाम पुर्तगाली शब्द “बासाई” (Baçaim) का अंग्रेजी संस्करण है, जिसका कनेक्शन उत्तर कोंकण क्षेत्र के वासा कोंकणी आदिवासी लोगों से माना जाता है, जो मुंबई से दक्षिण गुजरात तक फैले हुए हैं।

4. कोलाबा दुर्ग

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by subrat kumar sahoo (@s.u.b.r.a.t_a.l.o.k) on

कोलाबा दुर्ग किला महाराष्ट्र राज्य में अलीबाग के समुद्री तट पहुँचकर देखा जा सकता है। इतिहासकार कोलाबा किले को महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज का आखिरी निर्माण मानते हैं। कोलाबा किल्ला अलीबाग बीच से लगभग 1 कि.मी. समुद्र के भीतर मौजूद है।

5. सायन किला

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by @jeetsubha on

सायन दुर्ग एक पहाड़ी किला है। इसका निर्माण तात्कालीन बंबई के गवर्नर जेरार्ड अङ्गिएर द्वारा 1661 से 1677 के बीच ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के तहत करवाया गया था। इसे एक शंकु आकार की पहाड़ी के ऊपर बनाया था। अपने निर्माण के समय किले की क्रीक के उत्तर में इसे ब्रिटिश आयोजित परेल द्वीप और पुर्तगाली आयोजित सालसेट द्वीप के बीच सीमा के रूप में चिन्हित किया था। 1924 में ग्रेड वन विरासत संरंचना के रूप में अधिसूचित किया गया था।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds