रूथ ने हाल ही में अपने बेटे की सोशल मीडिया पर मरणान्तक रोग की दुःखद कहानी साझा की। कैंसर का एक आक्रामक रूप धीरे-धीरे और बेरहमी से उनके बेटे के शरीर में फ़ैल गया था और पिछले फरवरी में उसका निधन हो गया था। वह उस भयंकर भयावहता का वर्णन करना चाहती थी, जिसे उनके बेटे को सहना पड़ता था और उसकी कैंसर के खिलाफ लड़ाई में बरकरार साहस और उसके ह्रदय की शुद्धता को भी। इंटरनेट पर उनकी कहानी को तब से बहुत सहानुभूति मिली है।

अपने चार साल के बेटे का कैंसर से निधन हो जाने के दो महीने बाद, मैरीलैंड (Maryland) के लियोनार्डटाउन (Leonardtown) में रहने वाली रूथ स्कली (Ruth Scully) ने अपने प्रिय पुत्र के साथ अपने आखिरी दिनों का वर्णन करते हुए एक दुःखद कहानी पोस्ट की थी। रूथ के बेटे नोलन (Nolan) का र्ह्ब्डोमायोसरकोमा (Rhabdomyosarcoma) या आरएमएस (RMS), जो कैंसर का एक दुर्लभ और आक्रामक रूप है, के साथ 15 माह की लड़ाई के बाद पिछले फरवरी को निधन हो गया था, जो शरीर में नरम हड्डी ऊतकों पर हमला करता है और सभी उपचारों के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी भी हो जाता है।

रूथ कैंसर की भयानक वास्तविकता को साझा करना चाहती थी, जिसने उनके बेटे की जान ले ली थी—जो हर दिन बढ़ता ही जा रहा था और जिसने उनके बेटे के शरीर को चरणों में अशक्त बना दिया था। उन्होंने नोलन की बाथरूम के पायदान पर सोते हुए एक तस्वीर साझा की, जो इतना डरा हुआ था कि उनके नहाने के समय में भी वह उन्हें छोड़ने के लिए तैयार नहीं था।

Credit: Facebook | Nolan Strong

सितंबर 2015 में, नोलन ने बंद नाक की शिकायत की थी और उसके माता-पिता ने पहले सोचा था कि यह केवल ज़ुकाम था। जल्द ही, उसे सांस लेने में भी परेशानी होने लगी थी और इस बीच किसी भी उपचार का उस पर कोई प्रभाव नहीं हो रहा था। उसी वर्ष नवंबर में, डॉक्टर ने पाया कि एक ट्यूमर वास्तव में उसके नाक के रास्ते में रुकावट पैदा कर रहा था। यह कैंसर का एक प्रकार था जो मांसपेशियों, वसा और साथ ही जोड़ों पर भी बढ़ता है। मरीजों को झुकी हुई पलकें, सिरदर्द, मतली के साथ ही पेशाब करने में कठिनाई हो सकती है।

©Facebook | NolanStrong

कीमोथेरेपी और विकिरण चिकित्सा के कई प्रयासों के बाद, नोलन के बाल जल्द ही गिर गए, जबकि उसका शरीर बहुत कमजोर होता जा रहा था क्योंकि कैंसर उसके पूरे शरीर में फैल गया था। आमतौर पर, एक बार कैंसर के शरीर में फैल जाने के बाद, रोगियों की जीवित रहने की दर 40 से 20% के बीच हो जाती है।

उनकी मां अपने बेटे के साथ उन पिछले कुछ महीनों को दुनिया के साथ साझा करना चाहती थी, जिसमें उन्होंने वर्णन किया कि वह “और कुछ नहीं बल्कि केवल शुद्ध प्रेम का प्रतीक था।”

©Facebook | NolanStrong

नोलन के पिता जोनाथन (Jonathan) और मां दोनों ने बताया कि इस बीमारी के साथ अपनी लड़ाई में उनका बेटा बहुत ही मज़बूत था, जबकि रुथ ने अपने दर्द को साझा किया, “किसी भी पीड़ा से बड़ी पीड़ा”।

एक साल तक कैंसर से लड़ने के बाद जब वह आखिरी बार नोलन को अस्पताल ले गई थी, उनके बेटे ने कई दिनों से कुछ नहीं खाया था क्योंकि वह लगातार उल्टी कर रहा था। फरवरी तक, कैंसर विशेषज्ञ (oncologist) ने बताया कि उसका कैंसर फैल गया था और खुले छाती शल्य चिकित्सा के बाद वह उसकी श्वास नलियों और दिल के कार्य में बाधा पैदा कर रहा था। इस बीच उसका कैंसर सभी प्रकार के उपचारों के प्रति प्रतिरोधी बन गया था।

©Facebook | NolanStrong

रुथ ने अपनी पोस्ट में साझा किया, “जब मैं नोलन को आखिरी बार अस्पताल ले गई थी तो मुझे पता था कि यह सी-डीआईएफएफ (C-DIFF) के एक मामले के अलावा कुछ और भी गलत था। मुझे बस पता था और काफी अजीब बात है, मुझे लगता है कि उसे भी पता था।”

©Facebook | NolanStrong

रुथ ने साझा किया, “फरवरी 1 को हमें उसकी पूरी टीम के साथ बिठाया गया था। जब उसकी ओनकोलॉजिस्ट ने बोलना शुरू किया, मैंने उनकी आंखों में बहुत दर्द देखा था।”

“वह हमेशा हमारे साथ ईमानदार रही और पूरे समय हमारे साथ कैंसर के खिलाफ लड़ाई लडती रही, लेकिन उनके नवीनतम सीटी स्कैन ने बड़े ट्यूमर दिखाए थे जो खुली सीने की सर्जरी के चार हफ्तों के भीतर ही इतने बढ़ गए थे कि उसकी श्वास नलियों और ह्रदय पर दबाव बनाने लगे थे।”

“द मेस्टेटिक एल्वीओलर र्ह्ब्डोमायोसरकोमा (Mestatic Alveolar Rhabdomyosarcoma) उसके शरीर में बहुत तेज़ी से फैल रहा था।”

“उन्होंने इस समय समझाया कि उन्हें नहीं लगता कि उसके कैंसर का कोई इलाज था क्योंकि यह सभी उपचार विकल्पों के प्रति प्रतिरोधी हो गया था, जिन्हें हमने करने की कोशिश की थी और अब हमारा उद्देश्य होगा कि उसे आराम से रखा जाए क्योंकि उसकी हालत तेज़ी से बिगड़ रही थी।”

©Facebook | NolanStrong

आखिरी बार अपने बेटे से बात करने के दौरान, रूथ ने उससे कहा कि उसे “अब और नहीं लड़ना पड़ेगा” और उसने जवाब दिया था कि वह उनके लिए लड़ता रहेगा। उन्होंने उनके बीच हुई इस मर्मभेदी बातचीत को साझा किया :

“[रूथ] : बेटा… मैं यहाँ ऐसा नहीं कर सकती हूँ। तुन्हें सुरक्षित रखने का एकमात्र तरीका तुम्हें स्वर्ग में रखना है।” (मेरा दिल टूट गया था)

“नोलन : तो मैं  स्वर्ग में जाकर खेलूँगा जब तक आप वहाँ नहीं आ जाओगी! आप वहां आएँगी ना?”

फरवरी 4 को निधन होने से पहले नोलन अपने अंतिम दिनों में सोया था। रूथ ने अपने उस दर्द को वर्णित किया, जिस पर उसने “पुनरुत्थान न करें” आदेश पर हस्ताक्षर किए थे।

©Facebook | NolanStrong

इसके बाद, रूथ ने सभी मेडिकल व्ययों का भुगतान करने में सहायता के लिए एक गोफंडमी (GoFundMe) पेज बनाया था। अब तक, उन्होंने $50,000 जुटा लिए हैं। उसने अपने बेटे की लड़ाई को फेसबुक पर एक हृदयस्पर्शी श्रद्धांजलि में भी साझा किया, जिसमें उन्होंने उसका वर्णन “एक शूरवीर जो गरिमा और प्रेम के साथ मृत्यु की गोद में सो गया।” उसकी कहानी तब से 6,11,000 से अधिक लोगों द्वारा साझा किए जाने के साथ वायरल हो गई है।

रुथ बाथरूम के फ़र्श पर पायदान पर सो रहे अपने बेटे की याद का उल्लेख करती हैं।

उन्होंने लिखा, “अब मैं नहाने के लिए डर रही हूँ। अब यहाँ एक खाली गलीचे के अलावा कुछ भी नहीं है, जहां एक बार एक सुंदर नन्हा बच्चा अपनी माँ की प्रतीक्षा कर रहा था।”

Share