वह एक बहुत ही प्यारी और खास बच्ची है और शायद उसकी नियति भी यही चाहती थी। उसके जन्म से पहले डॉक्टरों ने उसकी माँ को बताया  था कि वह प्रसव के बाद एक मिनट भी जीवित नहीं रहेगी। लेकिन आज, छह साल बाद, वह एक सुंदर बच्ची है जो अपने चारों ओर खुशियाँ बिखेरती है।

इस छोटी और प्यारी बच्ची वीरसविया (Virsaviya) का जन्म दुर्लभ विकार के साथ हुआ था, जो 1,000,000 बच्चों में से 1 को प्रभावित करता है। उसका ह्रदय उसकी छाती के बाहर लगा हुआ था और त्वचा की एक पतली परत द्वारा संरक्षित था। चिकित्सकीय रूप से इस विकार को “कैंट्रेल आफ पेंटालोजी” (Pantalogy of Cantrell) कहा जाता है।

डैरी गोंचारोव (Dari Goncharov) की गर्भावस्था के दौरान, डॉक्टरों ने उन्हें बताया था कि उनकी बच्ची प्रसव प्रक्रिया के दौरान ही जीवित नहीं बच पाएगी।

लेकिन उसकी विशेष जीवन यात्रा के छह साल बाद, वीरसविया एक बड़ी दिल की सर्जरी के लिए इंतजार कर रही है और उसे आशा है कि सब कुछ जल्दी ही बेहतर हो जाएगा।

heartfeature

पिछले साल, उसके चिकित्सा खर्च के लिए पैसे जुटाने के लिए एक जन-सेवा अभियान की स्थापना की गई थी और कुछ ही हफ्तों में $27,000 से अधिक जुटा लिए गए थे।

kid3

वीरसविया अपने विकार के बावजूद जीवन और ऊर्जा से भरी हुई है और इसका श्रेय उसकी माँ के प्यार और देखभाल को जाता है जिसके साथ उन्होंने अपनी इस ख़ास बच्ची को पाला है।

वीरसविया नीचे दिए गए विडियो में कहती है, “मैं जानती हूँ कि मेरा दिल शरीर से बाहर क्यों है, क्योंकि यीशु यह दिखाना चाहते हैं कि वह मेरे जैसी विशेष चीज़ों का निर्माण कर सकते हैं।”

kid5

वीरसविया और उसकी माँ जीवित उदाहरण हैं जो पूरी मानवता को यह संदेश देती हैं कि हमें हमेशा आगे बढ़ते रहना चाहिए और कभी भी दुखी नहीं होना चाहिए क्योंकि असली नायक हमेशा आगे ही बढ़ता रहता है।

उनकी कहानी नीचे देखें!

 

Share

वीडियो