भारत उन विकासशील देशों में सबसे आगे है जो तेज़ी से प्रगति और विकास की और बढ़ रहे हैं. लेकिन हमारे देश में अभी भी कुछ ख़ामियाँ हैं जिनका हल ढूँढना अभी बाकी है. उन में से भ्रष्टाचार सब से बड़ी समस्या है, जिसने इस देश के विकास को रोक रखा है. घूसखोरी भ्रष्टाचार का ही एक दूसरा रूप है और समय समय पर इस पर काबू पाने के लिए कदम भी उठाए जाते रहे हैं लेकिन उन प्रयासों से भी कुछ नहीं हुआ.

इसलिए तमिलनाडु के एक NGO ने इस से लड़ने के लिए एक अनूठा उपाय खोज निकाला है.  इस NGO ने “0” रुपए  का एक नया नोट लागू किया है. जी हाँ आपने बिलकुल सही सुना, “0” रुपए का नोट. यह नोट दिखने में आम नोटों के जैसा ही है, सिवाय इस पर छपे मूल्य के.

Credit: Kalam Fan club

विजय आनंद, जो कि “5th पिलर” नामक NGO के संस्थापक हैं, उन्हें भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए 0 रुपए के नोट बनाने का विचार आया. उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर इन नोटों को रेलवे स्टेशनों, स्थानीय बाज़ारों, बस अड्डों, ट्रैफिक सिगनलों और ऐसे सभी स्थानों पर, जहाँ आम आदमी को रिश्वत देने के लिए पूछा जाता है, पर वितरित किया.

Credit: Kalam Fan club

इस नोट में आम नोटों के जैसी ही छपाई है लेकिन इन सब के अलावा इस NGO का नाम और नंबर भी इस नोट पर छपा है. इस नोट को बनाने के पीछे का विचार है, आम नागरिकों को सशक्त बनाना. यह 0 रुपए का नोट 5th पिलर के बारे में लोगों को जागरूक बनाना और उन्हें यह अहसास दिलाना कि वो भ्रष्टाचार के साथ लड़ाई में अकेले नहीं है. इस NGO के स्वयंसेवकों ने अब तक 3 लाख से भी अधिक नोट वितरित किए हैं.

Credit: Kalam Fan club

इस नोट पर एक शपथ भी छपी है “मैं वचन देता हूँ कि ना तो मैं रिश्वत लूँगा और ना ही दूंगा,” जिस से पता चलता है कि रिश्वत देना भी उतना ही बड़ा जुर्म है जितना कि रिश्वत लेना. एक बार विजय आनंद को एअरपोर्ट जाते समय एक ट्रैफिक पुलिस के कर्मचारी ने रोका था. वह जानते थे कि उसके पास ऐसा करने के पीछे सिवाय रिश्वत लेने के और कोई ठोस कारण नहीं था. उन्होंने उस पुलिस अफ़सर को 0 रुपए का नोट थमाते हुए कहा कि वह भ्रटाचार के किसी भी मामले में उस नोट पर छपे नंबर पर संपर्क कर सकता है. उस पुलिस अफ़सर ने उन्हें बिना कोई सवाल-जवाब किए जाने दिया.

Credit: Kalam Fan club

वह अपने इस अभियान को स्कूलों में भी चलाते हैं. हम 5th पिलर से ऐसे ही अन्य अभियान चलाने की आशा करते हैं और उम्मीद करते हैं कि उनके इस कदम से भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी में कमी देखने को मिलेगी.

हम प्रतिज्ञा लेते हैं  कि ना तो हम रिश्वत लेंगे और ना ही देंगे!

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds