वो दौर पीछे छूट गया जब बेटियां घर की चार दीवारी तक ही सीमित रहती थीं । आज के इस दौर में बेटियां न सिर्फ कामकाज़ में बेटों की बराबरी कर रही हैं बल्कि कठिन से कठिन चुनौतियों को स्वीकार करने से भी पीछे नहीं हटतीं। दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर पर अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर हरियाणा की इस बेटी ने यह साबित कर दिया है कि बेटियां भी किसी से कम नहीं हैं।

Image may contain: mountain, outdoor and nature
Credit: Facebook (Everester Shivangi Pathak)

फलक और ज़मीन के बीच अपने भाई की कलाई पर राखी बांधते हुए 16 वर्षीया शिवांगी ने एक वीडियो भी अपने फेसबुक पर साझा किया है। इस वीडियो के साथ उन्होंने कैप्शन दिया है, “कोई भी जीवन किसी अन्य जीवन से मुल्यवान नहीं है, कोई भी बहन किसी भी भाई से कमज़ोर नहीं है, Top of the world 29029।”

इसके साथ ही शिवांगी एवरेस्ट को फतह करने वाली दुनिया की सबसे युवा महिला बन गई हैं। दैनिक जागरण के अनुसार, शिवांगी का कहना है कि वे एवरेस्ट पर चढ़कर दुनिया को बताना चाहती थीं  कि महिलाएं किसी से कम नही हैं और किसी भी लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम हैं।

Image may contain: 1 person, smiling, mountain, sky, cloud, outdoor, nature and close-up
Credit: Facebook (Everester Shivangi Pathak)

खबरों की माने तो शिवांगी ने एक इंटरव्यू में कहा था, “मेरा सिर्फ एक ही मिशन है कि मैं इस खूबसूरत ग्रह के सभी पर्वतों को फतह करुं।” उन्होंने कहा कि दिव्यांग पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा उनकी प्रेरणा श्रोत हैं। बता दें कि अरुणिमा एवरेस्ट को फतह करने वाली दुनिया की पहली दिव्यांग हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds