चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के लिए आप पर, आपके संपर्कों और आपकी सभी गतिविधियों पर जासूसी करना पहले से कहीं अधिक सरल हो चुका है। यदि आपने सोचा कि कुछ विवादास्पद ऐप्स अनइंस्टॉल करने से समस्या हल हो सकती है, तो दोबारा सोचें।

द इकॉनोमिस्ट (The Economist) में 2015 की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में 70 प्रतिशत से अधिक सेलफोन चीन में बनते हैं।

सबसे कुख्यात हूवेई (Huawei) और जेडटीई (ZTE) फोन हैं, जिनके विरुद्ध एफबीआई (FBI), सीआईए (CIA) और एनएसए (NSA) ने फरवरी में अमेरिकियों को चेतावनी दी थी।

ये फोन अंतर्निहित स्पाइवेयर के साथ आते हैं, जिन्हें आप हटा भी नहीं सकते हैं।

©Wikimedia | Magunamu

एफबीआई के निदेशक क्रिस राय (Chris Wray) ने कहा कि, ” वे ऐसी कंपनियों या इकाइयों को अनुमति दिए जाने से चिंतित हैं जो उस सरकार के अधीन हैं जो हमारे मूल्यों से समर्थन नहीं रखती। ऐसी कंपनियों द्वारा हमारे दूरसंचार नेटवर्क के अंदर उच्च और महत्वपूर्ण पदों को प्राप्त कर लेना,अत्यंत ही जोखिम भरा है – रिपोर्ट सी.एन.बी.सी.

एक आम अमेरिकी अगर किसी चीन निर्मित सेलफोन का उपयोग करता है तो वह अनजाने में ही सीसीपी की सहायता कर बैठता है।  
ये सीसीपी दुर्भावनापूर्ण रूप से उपभोक्ताओं की जानकारी बदलते या चोरी करते हैं। और इसे अज्ञात रूप से जासूसी प्रदान करने की
क्षमता भी कह सकते हैं।"आपको पता नहीं होगा, लेकिन आप शायद पहले से ही अपने स्मार्टफोन के ज़रिये चीन के विशाल अमेरिकी 
 डेटाबेस का हिस्सा बन चुके होंगे।
©Getty Images | STR

यह चीन में रहते हुए लोगों के लिए जीवन या मृत्यु का मामला हो सकता है

फोन हो या न हो, जब तक आप चीन में हैं, आपके संचार की निगरानी की जाती है। यदि आप राजनीतिक रूप से संवेदनशील माने जाने वाली सीसीपी के बारे में कोई भी बात, कहते हैं, टाइप करते हैं, अपलोड या प्रकाशित करते हैं, तो आप बहुत जल्द मुश्किल में पड़ सकते हैं।

यदि आपने चीनी शब्द “真善忍” में “सत्य-करुणा-सहनशीलता” शब्द को लिखा या कहा है, तो आप कुछ ही समय में “गायब” हो सकते हैं और शायद फिर कभी दिखाई नहीं देंगे।

“सत्य-करुणा-सहनशीलता” फालुन गोंग के तीन मुख्य सिद्धांत हैं, एक ऐसा ध्यान अभ्यास जिसे पूर्व पार्टी के प्रमुख जियांग जेमिन ने इसकी लोकप्रियता से डरकर उसे अवैध घोषित किया और इसके अभ्यासियों को सताया गया।

जुलाई 20, 1999 से पहले गुआंगज़ौ (Guangzhou), चीन में फालुन दाफा अभ्यासिओं का समूह अभ्यास। (©The Epoch Times)

उनके अंगों के लिए चीनी सरकार द्वारा फालुन गोंग के अभ्यासियों की हो रही हत्या पर अधिक जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें।

वहीं खतरे पैदा होते हैं यदि आप ने यह शब्द कहें : फालुन गोंग, फालुन दाफा, तियानानमेन स्क्वायर नरसंहार, ताइवान की आजादी, जबरन अंग कटाई, स्वतंत्र तिब्बत, आदि।

सीसीपी असंतुष्टों को ट्रैक करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करता है। यह एक कारण है कि (Google) के विवादास्पद “प्रोजेक्ट ड्रैगनफ्लाई” के साथ चीन में लौटने की इच्छा, जो विशेष रूप से कम्युनिस्ट चीन के लिए बनाया गया Google का एक सेंसर संस्करण है, भारी प्रतिक्रिया का सामना कर रहा है।

©Getty Images | LIU JIN

चिंता यह है कि इसका मतलब यह हो सकता है कि Google भी चीन के सर्वाधिकारी शासन के तहत बहुत ही निकट भविष्य में पता नहीं कितने लोगों के गायब करने, यातना और हत्याओं में शामिल हो जायेगा।

बेनामी I.T. विशेषज्ञ की चेतावनी

एक फालुन गोंग अभ्यासी जो चीन में आईटी उद्योग में काम करते हैं ने गुमनाम रूप से जुलाई में अन्य फालुन गोंग अभ्यासियों को चेतावनी देते हुए सूचना पोस्ट की, कि उनके सेलफोन कैसे उनके जीवन को खतरे में डाल सकते हैं। वह सुरक्षा कारणों से अपनी पहचान प्रकट नहीं कर सके।

सीसीपी के लिए, स्मार्टफोन और टेक्स्ट मैसेजिंग के आगमन के साथ अपने नागरिकों की निगरानी करना बहुत ही सरल हो गया है।

©Wikipedia | Kelvinsong

“क्योंकि स्मार्ट फोन के साथ इंटरनेट का उपयोग व्यापक हो गया, सीसीपी द्वारा की गयी निगरानी के विषय और उनकी निगरानी क्षमताओं में तेजी से वृद्धि हुई है,” वह आगे लिखते हैं, “उदाहरणतः, सीसीपी इन बातों पर जानकारी एकत्र कर रहा है:

• मोबाइल फोन उपयोगकर्ता का स्थान और यात्रा मार्ग।

• अनुप्रयोगों में, कॉल और टेक्स्ट संदेशों की सभी सूचना इनपुट। सभी वार्तालापों और पृष्ठभूमि आवाजों को अक्षरों में परिवर्तित किया जा सकता है।

• फोन के साथ ली गई तस्वीरें—चित्रों में लोगों के चेहरे की पहचान करने वाले सॉफ्टवेयर के माध्यम से उस व्यक्ति को पहचाना जा सकता है। सीसीपी अब कैमरों को भी हैक कर सकता है और अतिरिक्त तस्वीरें और वीडियो भी ले सकता है।

• ‘फिंगरप्रिंट फ़ंक्शन से अनलॉक’ करने पर फ़िंगरप्रिंट।

• वॉयस-प्रिंट्स—फिंगरप्रिंट की तरह ही हर किसी की एक विभिन्न जैविक ध्वनि विशेषताएं होती हैं।

• भुगतान जानकारी—खरीदारी करने की आदतें, आय और रोजगार विवरण दिखाता है।

• बातचीत की जानकारी—किसी व्यक्ति की विचार प्रक्रिया का एक स्केच प्रदान करता है।

• मोबाइल फोन ब्राउज़र और अनुप्रयोग। यह हैकिंग करने और डेटा का संग्रह करने को सरल बनाता है।

• आप किन वेबसाइटों, आईपी पते और सेवाओं का उपयोग करते हैं।

• एड्रेस पुस्तिकाओं से संपर्क जानकारी।

• स्वास्थ्य और जीवन शैली की जानकारी।”

आम नागरिक के लिए, यह जानकर कि सरकार इस सारी जानकारी को ट्रैक कर रही है, डरावना हो सकता है, लेकिन एक फालुन गोंग अभ्यासी, एक जातीय उइघुर, तिब्बती या किसी तरह के राजनीतिक कार्यकर्ता के लिए, यह उनकी जान से संबंधित बात है।

इतिहास में पहले कभी भी एक शासन की ऐसी निगरानी करने की क्षमता नहीं थी, लेकिन अब सीसीपी के पास यह है।”

आपका फोन आप की बातें सुनने वाला यंत्र है, जब आप इसका उपयोग नहीं कर रहे हों तब भी

उन्होंने यह एक परिदृश्य दिखाया, जिसमें कॉल पर नहीं होते हुए भी आप का सेलफोन किसी व्यक्ति के वार्तालाप में एक “ट्रिगर शब्द” का पता लगाता है। सेलफोन सक्रिय हो जाता है—भले ही यह आस-पास की टेबल पर पड़ा हो या आपकी जेब में निष्क्रिय हो—और फिर वॉयस रिकॉग्नाइजेशन फ़ंक्शंस के द्वारा पूरी बातचीत रिकॉर्ड होती है और सीसीपी को भेजी जाती है।

“तब से, यह सेलफोन विभिन्न उपरोक्त निगरानी विधियों का उपयोग करके लंबी अवधि की निगरानी के लिए सेट हो जाता है,” वह लिखते हैं। “फोन की एड्रेस बुक, कॉल रिकॉर्डिंग और चैट सॉफ़्टवेयर के माध्यम से, सीसीपी फिर अन्य अभ्यासिओं को मॉनिटर करने के लिए उनका पता लगाता है।

वह कहते हैं कि अधिकांश नवीनतम सेलफोन कीवर्ड वेक-अप फ़ंक्शंस के साथ बनाए जाते हैं। ऐप्पल फोन के लिए, यह  “हाय सिरी” (“Hi Siri”) फ़ंक्शन है, और एंड्रॉइड सेलफोन के लिए “हाय Google” फ़ंक्शन है।

©Wikipedia | Maurizio Pesce

इसके अलावा, सीसीपी ने सुनिश्चित किया कि सभी फोन कई सचेत करने वाले शब्दों और वाक्यांशों को पहचानने के लिए डिज़ाइन किए जाएं।

“कोई भी जो चीन में सेल फोन खरीदता है वह एक ऐसा उपकरण खरीद रहा है जो सीसीपी को उसके बारे में जासूसी करने में सक्षम बनाता है,” उन्होंने पुष्टि की। “फोन जासूसी सॉफ्टवेयर के साथ आता है जो कारखाने में स्थापित किया जाता है। इस प्रकार, फैक्टरी सेटिंग्स को सुधारने की कोशिश से समस्या हल नहीं हो सकती है। “

आप अब चीन में बने फोन खरीदने के बारे में और एक बार सोच लें।

Share

वीडियो