एक औरत चाहे तो क्या नहीं कर सकती। रेखा नाम की इस महिला ने खेतों में हल चलाकर बना दिया था रिकॉर्ड। पति की असमय मौत के बाद मुरैना जिले में पहाड़गढ़ के पास गांव जलालपुरा की एक महिला ने खेत में खुद हल चलाकर नेशनल रिकॉर्ड बना दिया।
Rekha, Hindi, Motivational, Inspirational, Prernadayak, Positive, Story, Kahanai,
Credit: ajabgjab

समाज के लोग “विधवा” कहकर घर पर बैठने की हिदायत दे रहे थे, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी। आज रेखा अपने खेत में आधुनिक तौर-तरीके से खेती करती हैं और पैदावार भी काफी बढ़ा ली है। उन्होंने सिर्फ एक हेक्टेयर के खेत में 50 क्विंटल बाजरा पैदा कर नया रिकॉर्ड बनाया, क्योंकि अब तक नेशनल एवरेज 15 क्विंटल था।

Image result for राष्ट्रीय कृषि-कर्मण अवॉर्ड record rekha pics
Credit: newscdn.newsrep

रेखा की इस उपलब्धि के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें “राष्ट्रीय कृषि-कर्मण अवॉर्ड” के लिए सम्मानित किया है। रेखा को इस उपलब्धि के लिए ₹2 लाख का चेक और प्रशंसा पत्र खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मार्च 19, 2016 को दिल्ली में प्रदान किया।

Credit: newscdn.newsrep

पति की मौत के बाद जब रेखा खुद अपनी खेती को संभालने बाहर निकली तो उन्हें समाज से जंग लड़नी पड़ी। कंधों पर दो बेटियों और एक बेटे की जिम्मेदारी थी और गुजारे के नाम पर महज एक हेक्टेयर का खेत। उन्हें इसी के सहारे अपने परिवार को पालना था।

Credit: newscdn.newsrep

समाज के असहयोग के चलते कई बार तो गृहस्थी के काम के साथ-साथ रेखा को खेतों में हल भी चलाना पड़ा। आखिरकार रेखा की साहस और दृड़ता कामयाब हो गई है। अब गांव के लोग भी रेखा पर गर्व कर रहे हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds