खेलों और एडवेंचर की बात करें तो हरियाणा के लोग नंबर वन हैं। मई 17 की शाम एक और एडवेंचर रिकॉर्ड हरियाणा के शहर यानी मिलेनियम सिटी के नाम हो गया है। दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर शहर के 53 वर्षीय अजीत बजाज और उनकी 24 वर्षीय पुत्री दीया बजाज ने एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचकर तिरंगा लहराया।

Image result for अजित बजाज और दिया बजाज
Credit: punjabkesari

अजीत बजाज ने पहले भी साहसपूर्ण अभियानों के कई रिकॉर्ड कायम किए हैं, लेकिन यह अनुभव सबसे हटकर था क्योंकि वे अपनी बेटी के साथ एवरेस्ट पर पहुंचे। बेटी दीया पिता से 15 मिनट पहले एवरेस्ट पर पहुंची और बाद में पिता अजीत बजाज पहुंचे। बृहस्पतिवार की सुबह दुनिया की सबसे ऊंची चोटी से सूर्योदय का सुंदर नजारा देखकर वे बहुत ही खुश थे।

अजीत बजाज ने अपनी पुत्री को सदा एडवेंचर के कार्यों के लिए उत्साहित किया। देश की बेटियों को इससे प्रेरणा मिलेगी। पिता पुत्री 20 मई तक गुरुग्राम लौटकर आएंगे। अजीत बजाज नॉर्थ पोल और साउथ पोल पर स्कीइंग करने वाले पहले भारतीय हैं। यह रिकॉर्ड उन्होंने वर्ष 2006-07 में बनाया था। दीया ने उत्तरकाशी के नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग से प्रशिक्षण लिया है। 17 साल की उम्र में दिया ने 20 दिन के ट्रांस ग्रीनलैंड स्कींग एक्सपीडिशन में हिस्सा लिया था। वर्ष 2012 में दिया बजाज ने यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलबर्स (5642 मीटर) पर फतेह हासिल की थी।

Image result for पिता-पुत्री इ जोड़ी एवरेस्ट
Credit: Clipper28 Digital Media

 

2011 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल ने अजीत बजाज को उनके साहसी अभियान के कार्यों को लेकर पद्मश्री से सम्मानित किया था। अजीत बजाज डीएलएफ फेज चार स्थित अपने एडवेंचर इंस्टीट्यूट के माध्यम से लोगों को विभिन्न एडवेंचर अभियानों में ले जाते रहे हैं। उन्होंने लोगों को इसका प्रशिक्षण भी दिया है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds