दुनिया में आने वाले हर शिशु के पांव फूलों पर नहीं पड़ते, कुछ के कदम दुनिया में आते ही कांटो भरी राह पर पड़ते हैं। नन्हें कुमारस्वामी की जिंदगी भी कुछ ऐसी ही है, जिसे दुनिया में उतरते ही जिंदगी के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी। हालांकि, यह उसकी खुशकिस्मती है कि एक करुणामयी लेडी कॉन्स्टेबल की आंचल की छांव में इस मासूम को नई ज़िंदगी मिली।

द हिन्दू के अनुसार, शुक्रवार सुबह एक कूड़ा उठाने वाले ने सेलिब्रिटी लेआउट, डोडाथोगुरु में एक कंस्ट्रक्शन साइट पर इस मासूम को प्लास्टिक के बैग में जिंदगी और मौत से जूझते हुए देखा। कूड़ा बिनने वाले ने स्थानीय दुकानदारों को इस बारे में सूचित किया और उन्होंने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही असिस्टेंट एसआई तुरंत घटना स्थल पर पहुंचे।

Credit: Twitter (Atul Chaturvedi)

ज़रुरी उपचार के बाद नवजात को पुलिस चौकी पर लाया गया और उसे महिला कॉन्स्टेबल अर्चना की देख-रेख में रखा गया। बच्चे की दयनीय हालत ने अर्चना की ममता को जगा दिया। उन्होंने नवजात को स्तनपान कराने का फैसला किया। खबरों के मुताबिक अर्चना का तीन महीने का एक बच्चा है और मातृअवकाश के बाद वे दोबारा काम पर आई हैं।

Credit:Twitter (Atul Chaturvedi)

ए.एसआई नागेश ने दी हिन्दू को बताया कि, “चुकी अब यह बच्चा सरकार का है, इसलिए हमने निश्चय किया कि इसका नाम कुमारस्वामी रखा जाएगा, क्योंकि अब यह शिशु सरकार की देखरेख में पलेगा।”

जिस किसी को इस खबर के बारे में पता चला सभी महिला कॉन्स्टेबल की सराहना कर रहे हैं। अतुल चतुर्वेदी नामक एक ट्वीटर अकाउंट से लिखा गया है, “उन्होंने एक नवजात को स्तनपान कराया, यह असली मातृत्व है।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds