किसी भी देश का भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि वहां के लोग कितने साक्षर हैं। साक्षरता बहुत हद तक देश की प्रगति तय करती है और इसे बढ़ाने के लिए भारत सरकार अलग-अलग तरह की योजनाएं लेकर आयी है। सरकारी योजनाओं से अलग वाराणसी के युवा साक्षरता बढ़ाने के लिए एक नई पहल के साथ आगे आए हैं।

दी बेटर इंडिया के अनुसार, वाराणसी के युवाओं ने ट्राई टू फाइट (TTF) नामक संस्थान बनाई है, जो शहर के वंचित बच्चों को शिक्षित करने का काम करती है। बेटर इंडिया से बात करते हुए, संस्था के कार्यकर्ता यजत ने कहा, हम सभी वाराणसी के निवासी हैं और टीटीएफ के सदस्य हैं। हमने इस संस्था को वर्ष 2013 में शुरु किया और वंचित बच्चों की मदद करने की सोची। 

पिछले पांच सालों में टीटीएफ 1000 से भी अधिक बच्चों को शिक्षित कर चुकी है। जिसमें यजत और उनके मित्र आयुष जैसे छात्र शामिल हैं। खबरों के अनुसार, ये छात्र 12 बैच चलाते हैं और कैंपस के आस-पास स्थित बस्तियों में 500 छात्रों को शिक्षित करते हैं। अब टीटीएफ का एक फेसबुक पेज भी है, जिसमें 2000 से भी अधिक लोग जुड़े हुए हैं।

आयुष ने बेटर इंडिया से कहा, “बच्चों को शिक्षित करने के लिए हम अपनी पॉकेटमनी का इस्तेमाल करते हैं। हमने लोगों को दान करने का आग्रह भी किया है। यह राशि 100 रुपये या उससे भी कम हो सकती है ताकि हम इस कार्य को लंबे समय तक जारी रख सकें।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds