अर्चना जयंत नामक उत्तर प्रदेश की पुलिस महिला कॉस्टेबल अपनी 6 महीने की बच्ची अनिका के साथ थाने में पूरी शिद्दत से अपनी ड्यूटी करती दिखाई दे रही हैं। वे अपनी ममता का फर्ज और साथ ही अपने ड्यूटी के प्रति वचनबद्ध होकर पुलिस के संवेदनशील, समर्पित चेहरे को दर्शा कर लोगों को उदाहरण प्रस्तुत कर रही हैं। 

Credit : Twitter

दरअसल, अर्चना जयंत झांसी के कोतवाली में पोस्टेड हैं। वे हर दिन की तरह सामान्य रूप से अपनी बच्ची को एक टेबल पर अपने पास रखकर उसकी देखभाल के साथ साथ अपनी ड्यूटी भी निभाती थीं। रविवार को ट्विटर पर एक तस्वीर आई, जिसमें अर्चना अपनी बच्ची के साथ दिखीं। जैसे ही उनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर आई, उनके प्रशंसकों की बाढ़ सी आ गई, क्योंकि जिस रूप में वे थाने में अपनी ड्यूटी निभाती दिखीं, वह कोई सामान्य बात नहीं थी। 

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी राहुल श्रीवास्तव ने ट्वीट कर अर्चना को ‘मदरकॉप’ का नाम दिया। उन्होंने लिखा, “अर्चना के लिए मां का कर्तव्य और पुलिस की ड्यूटी साथ-साथ चलती है। इसके लिए वो सलाम की हकदार हैं।”

इस तस्वीर के वायरल होने के बाद विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ डीआईजी सुभाष सिंह बघेल ने भी कॉन्स्टेबल अर्चना के इस जज्बे और समर्पण की भावना की तारीफ की और उन्हें एक हजार रुपए का पुरस्कार दिया। साथ ही प्रशंसकों ने उनके वरिष्ठ अधिकारियों से बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की है। 

राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह ने ट्वीट कर उनकी तारीफ में लिखा, “मिलिए 21वीं सदी की महिला से, यह किसी भी दायित्व को पूरे हौसले से निभा सकती हैं । अर्चना से आज सुबह बातचीत करने के बाद मैंने उनका ट्रांसफर आगरा, उनके घर के पास ही करने का आदेश जारी किया। इस मामले के बाद हमें सभी पुलिस थाने में महिला सिपाहियों के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में सोचना होगा।”

शादीशुदा अर्चना के दो बच्चे हैं—10 साल का बेटा कनक और 6 महीने की बेटी अनिका। उनके बेटे का पालन पोषण उसके नाना के पास आगरा में हो रहा है। अर्चना के पति हरियाणा के गुरुग्राम में एक कार कंपनी की फैक्ट्री में काम करते हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds