एक ज़माना था जब किसी कार्य को पूरा करने के लिए दिन-महीने लग जाते थे, लेकिन अब ज़माना स्मार्ट हो चला है और तकनीकी की बदौलत महीनों का काम मिनटों में पूरा हो जा रहा है। भारत भी स्मार्ट होती दुनिया के साथ कदम ताल मिलाकर चल रहा है और अब यहां काम इतने स्मार्ट तरीके से हो रहे हैं कि चंद घण्टे पहले जन्म लेने वाले बच्चे का भी पासपोर्ट कुछ घण्टों में बनकर तैयार हो सकता है।

आपको शायद इन बातों पर भरोसा न हो लेकिन गुजरात के सूरत स्थित रीजनल पास्पोर्ट ऑफिस (RPO) ने कुछ ऐसा ही कार्य किया है। जिसकी कहानी जानकर आप भी कहेंगे की वाकई अब हमारा देश स्मार्ट हो चला है। बात सूरत के एक ऐसे नवजात रुगवेद की है, जिसे जन्म के कुछ घण्टों के अंतराल के बाद ही पासपोर्ट मिल गया और उसे दुनिया की सैर करने की अनुमति मिल गई।

खबरों की मानें तो रुगवेद के जन्म के करीब एक घण्टे के बाद ही उसका जन्म प्रमाण पत्र बनकर तैयार हो गया। महानगर पालिका के जन्म नामांकन विभाग से जन्म प्रमाण पत्र प्राप्त करने के बाद रुगवेद के पिता रिजनल पासपोर्ट ऑफिस पहुंचे। पासपोर्ट ऑफिस ने महज दो घण्टों में सभी प्रक्रियाएं पूरी कर रुगवेद का पासपोर्ट जारी कर एक नया रिकॉर्ड बनाया। इसके अलावा रुगवेद भी सबसे कम उम्र में पासपोर्ट धारण करने वाला विश्व का पहला नवजात बन गया।

सूरत आरपीओ ने भी ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। अपने आधिकारिक ट्वीटर अकाउण्ट पर ट्वीट कर आरपीओ ने लिखा, “पासपोर्ट ऑफिस सूरत ने कुछ घण्टों में नवजात रुगवेद का पासपोर्ट बनाकर एक रिकॉर्ड बनाया है। इसके साथ ही रुगवेद सबसे कम उम्र में पासपोर्ट धारण करने वाला देश का पहला बच्चा बन गया है। उसके पिता मनीष कपाड़िया ने आरपीओ ऑफिस सूरत से इसी माह की दस तारीख को रुगवेद का पासपोर्ट प्राप्त किया।”

अक्टूबर 10 को शहर के एक निजी अस्पताल में जन्म लेने वाले रुगवेद का नाम लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज कराने का प्रयास भी जारी है। नवजात के पिता मनीष कापड़िया बताते हैं कि जन्म के तकरीबन दो घंटे में बच्चे का पासपोर्ट जारी होना यह दर्शाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया का सपना पूरा हो रहा है और भारत हर क्षेत्र में स्मार्ट होता जा रहा है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds