किसी की मदद करने के लिए धन से ज्यादा आवश्यक है दृढ़ इच्छा शक्ति की। इंसान यदि ठान ले तो किसी भी परिस्थितियों में दूसरों की मदद कर सकता है। पश्चिम बंगाल के पुरुलिया ज़िले के रहने वाले झुका बौरी ने भी कुछ ऐसा ही नेक काम किया है, जिसकी चहुओर सराहना हो रही है।

हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार दिहाड़ी पर काम करने वाले बौरी ने अपनी ज़मीन का एक हिस्सा स्कूल को दान कर दिया। बौरी चाहते हैं कि स्कूल प्रशासन उनकी ज़मीन पर एक छप्पर डाले जिसके नीचे बैठकर स्कूल के बच्चे मिड-डे मील खा सकें। खबरों के मुताबिक बौरी ने बताया कि उन्होंने बच्चों को खुले आसमान के नीचे भोजन करते देखा है और जब बारिश होती है तो बच्चे अपनी थाली को संभालते हुए सिर छुपाने के लिए जगह तलाशते हैं।

प्रतिकात्मक तस्वीर

हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार बिंडुईडी प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक समुद्रनाथ मंडल ने बताया, इस स्थान का उपयोग मिड-डे मिल का छप्पर बनाने के लिए किया जाएगा। साथ ही यहां सब्जियां भी उगाई जाएंगी। स्कूल प्रशासन ने शेड बनाने के लिए लोगों से चंदा देने के लिए निवेदन किया है।

एक शिक्षक ने कहा कि हम स्कूल को एक मॉडल स्कूल के तौर पर विकसित करना चाहते हैं। बौरी की सराहना करते हुए उन्होंने कहा, “यह एक नेक काम है और लोग इसे लंबे समय तक याद रखेंगे।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds