एक किसान के लिए मौसम में बदलाव वरदान या विनाश साबित हो सकता है। खासकर तब, जब आलू और प्याज जैसी नष्ट होनेवाली फसलों की बात आती है। लेकिन मध्य प्रदेश के 22 वर्षीय किसान रोहित पटेल ने अपनी फसलों को कुछ महीनों तक स्टॉक करके रखा और दस गुना लाभ कमाया। 

Indian Teen Finds Low Cost Onion Storage Facility
Credit : Better India

आमतौर पर मार्च या अप्रैल की गर्मियों में प्याज की फसल की कटाई की जाती है। अगर किसान उस समय अपनी फसल बेचता है तो ₹ 2-3 रुपये प्रति किलो ही कमाता है। हालाँकि बारिश के मौसम आने तक अगर वह अपनी प्याज की फसल को स्टॉक करके रखता है तो वह प्याज़ से प्रति किलो ₹ 30-35 कमाता है। 

इसलिए कई किसान बारिश के मौसम के अंत तक अपनी फसल को स्टॉक करके रखते हैं। लेकिन भंडार करने की सुविधा अक्सर गांव में नहीं मिलती है इसलिए किसान अपनी फसल को अपने घरों या गोदामों में ही स्टॉक करते हैं। लेकिन गर्मी, नमी, कीट या चूहों के कारण फसल बरबाद हो सकती है। इसलिए रोहित पटेल का ठंडा भंडारण जुगाड़ किसानों के लिए वरदान साबित हो सकता है। 

No automatic alt text available.
Credit : Facebook

बिना खिड़कियों वाले कमरे में पटेल ने नियमित दूरी पर ईटों की 8 इंच की पंक्तियां बनायीं हैं। इन पंक्तियों पर उन्होंने लोहे का जाल फैलाया है। और उस पर अपनी प्याज की फसल का भंडार जमा कर दिया है। और हर 100 वर्गफुट की निश्चित दूरी पर गड्डा बनाकर चौड़ी पाइप स्थापित की है और उसके शीर्ष पर पंखे लगा दिए हैं। 

पंखे चालू करने के बाद लोहे के जाल से होते हुई हवा प्याज को नीचे से ठंडा रखती है। रोहित ने चार साल के शोध के बाद इस गोदाम का निर्माण किया। अब रोहित प्याज को लम्बे समय तक भंडार करके रख सकते हैं जिससे उन्हें 15-20 प्रति किलो मिलेंगे। पिछले साल रोहित ने 5 लाख का मुनाफा कमाया था। 

Image may contain: fruit and food
Credit : Facebook

इससे पहले रोहित ने 3000 क्विंटल प्याज के लिए 90000 कमाए थे। लेकिन इस तकनीक का उपयोग करने के बाद 1 करोड़ 5 लाख कमाये । यह 96 लाख के लाभ को अनुवाद करता हैं। अब अगर यह लाभदायक जुगाड़ नहीं है तो और क्या है ?

 

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds