आये दिन हमें देश में कोई न कोई अपहरण की घटनायें सुनाई देती हैं। ऐसी ही एक घटना में अपहरण की एक कोशिश तब नाकाम हो गई जब एक पिता अपनी बेटी को बचाने के लिए अपहरणकर्ताओं के सामने डट गया। हरियाणा के गुरुग्राम में अपहरणकर्ताओं ने एक मासूम लड़की के अपहरण की कोशिश की थी। 

No automatic alt text available.
Credit : Facebook

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक हरियाणा के गुरुग्राम में रहनेवाली एक दसवीं कक्षा की छात्रा अपनी सहेली के घर अक्सर पढ़ाई के लिए जाती थी। और उस लड़की के पिताजी उसे रोज़ वापस लाते थे। ऐसे ही कुछ दिनों पूर्व जब वह लड़की अपनी सहेली के घर से पढ़ाई कर अपने पिता के साथ वापिस लौट रही थी। तब अचानक रास्ते पर जा रही कार के चालक और उसके साथी ने इस लड़की को कार के अंदर खींच लिया। 

लड़की के पिता कुछ समझ पाते इससे पहले वह लड़के कार लेकर आगे निकल गए। लेकिन लड़की के पिता ने सूझबूझ से काम लेते हुए तुरंत अपनी मोटरसाइकिल से कार का पीछा किया। काफी देर तक पीछा करने के बाद लड़की के पिता अपहरणकर्ताओं की कार रोकने में कामयाब रहे। उन्होंने अपनी बेटी को अपहरणकर्ताओं से न केवल छुड़ाया परन्तु उन दोनों को पुलिस के हवाले भी किया। इन दोनों अपहरणकर्ताओं की उम्र लगभग 20 साल थी।

शिवाजी नगर पुलिस ने दोनों अपहरणकर्ताओं को उस जगह से गिरफ्तार कर लिया और उनके खिलाफ पीओसीएसओ अधिनियम की धारा 8(यौन हमला) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी। यह पहला प्रकरण नहीं हैं कि इस तरह की घटनायें हुई हैं। लेकिन लोग अब खुलकर इन घटनाओं का सामना करने को तैयार हैं और पहले से ज्यादा सतर्क हो गए हैं। 

गाजियाबाद की एक घटना में एक माँने अपनी सूझबूझ की वजह से अपनी 12 साल की लड़की को अपहरण से बचाया था। दरअसल लड़की की माँ ने उसे एक कोड वर्ड दिया था और कहा था कोई भी अनजान व्यक्ति माता-पिता का नाम लेकर तुम्हें कहीं चलने को कहे तो कोड वर्ड पूछ लेना। 

माँ की यह सतर्कता एक दिन बच्ची के काम आयी जब एक अजनबी ने उसे पिता द्वारा बुलाये जाने की बात कहकर साथ चलने को कहा तब लड़की ने उसे कोड वर्ड पूछा जिसे बताने में वह असमर्थ था और वह व्यक्ति वहाँ से भाग गया। इसलिए हमेशा सावधानी बरतें और ऐसी घटनाओं का सामना सुध-बुद्ध में करें। 

Share

वीडियो