कहते हैं शिक्षा ग्रहण करने की कोई उम्र नहीं होती। आप उम्र के चाहे जिस भी पड़ाव में हों, ज्ञान के मंदिर का दरवाज़ा हमेशा आपके लिए खुला रहता है। केरल में ज्ञान की भूखी एक 96 वर्षीय वृद्धा न सिर्फ विद्यालय पहुंचीं बल्कि मौखिक परीक्षा में पहले स्थान पर भी आईं।

Credit: Facebook

दरअसल, 96 वर्षी करथायनी (Karthayani) अम्मा ने अलाप्पुझा (Alappuzha) के कनिचेनेलुर (Kanichenellur) सरकारी प्राथमिक विद्यालय में चौथी कक्षा में दाखिल होने की परीक्षा दी, जो कि उनकी जिंदगी की पहली परीक्षा थी। दी न्यूज़ मिनट के अनुसार केरल साक्षरता मिशन के अक्षरलक्षम योजना के तहत परीक्षा दी और इसके साथ ही अपने ज़िले की सबसे बुजुर्ग परीक्षार्थी भी बन गईं।

खबरों के मुताबिक इस परीक्षा में 45 छात्र बैठे थे और अम्मा उनमें से सबसे बुजुर्ग परीक्षार्थी थीं। परीक्षा तीन चरणों में हुई, जिसमें 30 अंक पढ़ने, 40 अंक लिखने और 30 अंक गणित के लिए था। अम्मा ने पढ़ने में पूरे के पूरे 30 अंक हासिल किये।

Credit: Facebook

हालांकि, परीक्षा परिणाम तो अभी घोषित नहीं हुआ है, लेकिन अम्मा को विश्वास है कि उन्हें लिखित परीक्षा में भी पूरे अंक मिलेंगे। उन्हें इस बात की भी खुशी है कि परीक्षा में उतने सवाल नहीं आएं, जितना कि उन्होंने पढ़ाई की थी। उन्हें लगता है कि उन्होंने बिना किसी वजह के बहुत ज्यादा पढ़ाई कर ली।

Credit: Facebook

इस वर्ष की शुरुआत में साक्षरता मिशन के तहत दाखिला लेने के बाद उन्होंने गणित और मलयालम की ट्यूशन भी लगा रखी थी। परीक्षा में शामिल एक अन्य वृद्धा के साथ बैठकर वे अपना अध्याय याद करती थीं। लिखित परीक्षा में पास होने के बाद अगले साल वे चौथी कक्षा में जाएंगी।

परीक्षा समाप्त होने के बाद वे पूरी तरह से निश्चिंत हैं। एक मलयालम टीवी चैनल ने उन्हें अंग्रेज़ी की एक किताब भेंट की हैं, उनका कहना है कि वे चौथी कक्षा में दाखिल होने से पहले अंग्रेजी पढ़ने का अभ्यास करना चाहती हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds