किसी भी कहानी का सबसे अच्छा हिस्सा जहां महिलाएँ बाधाओं को तोड़ती हैं, वे स्वयं महिलाएं ही हैं.  2016, भारतीय वायु सेना के इतिहास में सबसे अधिक यादगार वर्ष होगा जब अवनी चतुर्वेदी, भावना कंठ, और मोहना सिंह देश की पहली महिला लड़ाकू पायलट प्रमाणित की गयी. पिछली बार जब IAF ने ऐसा कुछ असाधारण किया था तो वो दो दशक पहले था जब महिलाओं को हेलिकॉप्टर पायलट के पद पर लेने के लिए “हाँ” कहा था.

गुंजन सक्सेना का कहना है कि महिला पायलटों को अब स्थायी आयोग मिल सकता है

Credit: Facebook | Change Your Mindset.

युद्ध में महिलाएं फ्रंट लाइन्स से अनजान नहीं हैं, जो मेडिक्स, नर्सों और सैनिकों के रूप में सेवा कर रहीं हैं, हालांकि, इन साहसी और प्रतिबद्ध महिलाओं द्वारा किए गए बलिदान को उनके पुरुष समकक्षों के साथ-साथ याद नहीं किया जाता है. गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन के नाम से अधिकतर भारतीय परिचित नहीं है. वे अठारह साल पहले कारगिल युद्ध के दौरान अत्यंत शत्रुतापूर्ण इलाके के मध्य से गुजरने वाली, बंदूकें चमकाती हुई, भारत की पहली महिला लड़ाकू पायलट थी.

1999 में युद्ध के दौरान, महिला पायलटों को लड़ाकू विमानों को उड़ाने की इजाजत नहीं थी और गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन को आपूर्तियां गिराने, चिकित्सा निकासी, और उनके निहत्थे और रक्षाहीन हेलिकॉप्टरों से दुश्मन की स्थिति का पता लगाने का काम सौंपा जाता था. इन दो बहादुर महिलाओं ने उनके हेलिकॉप्टरों में उड़ते हुए कई मौत से करीब होने के अनुभवों का सामना किया, पर वे किसी भी अन्य बहादुर सैनिक की तरह अपने देश के लिए मरने के लिए तैयार थी.

युद्ध के क्षेत्र में प्रवेश के लिए उड़ान भरने से पहले श्रीविद्या राजन

Credit: YouTube Screenshot.

हेलिकॉप्टरों को पहाड़ों के ऊपर उड़ाने के लिए एक अविश्वसनीय कौशल की आवश्यकता होती है और हमेशा नीचे से गोली लगकर गिरने का खतरा होता है. जब कई अधिकारियों ने सुरक्षा के बारे में आशंका जताई तो इन दोनों महिलाओं ने शानदार ढंग से अपनी योग्यता का प्रदर्शन किया. एन डी टी वी (NDTV) से बात करते हुए गुंजन ने कहा हैं कि फाइटर स्ट्रीम में महिलाओं को शामिल करना आई ए एफ के द्वारा एक बहुत ही बड़ा और सकारात्मक कदम है.

वास्तव में, हम सभी को यह देखने में बहुत खुशी और गर्व होगा कि हमारी महिला लड़ाकू पायलट प्रतिष्ठा के साथ आसमान छूए!

उड़ान अधिकारी गुंजन सक्सेना पहली महिला थीं जिन्होंने शौर्य वीर पुरस्कार प्राप्त किया

Credit: Facebook | Air Force Association Gujarat.

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds