अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम अथवा ए. पी. जे. अब्दुल कलाम (APJ Abdul Kalam), जिन्हें मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और अभियंता (इंजीनियर) के रूप में विख्यात थे। जुलाई 27, 2015 को इस महान आत्मा ने हम सबसे विदाई ली। जुलाई 30, 2015 को उनके पैतृक गांव में उनका अंतिम संस्कार किया गया।

Image result for pics of abdul kalam
Credit: shoppingthoughts

इनका पूरा जीवन ही सफलता की कहानी है। कलाम साहब एक विलक्षण, किंतु सहज बुद्धि के व्यक्ति थे। यहां आज हम आपको उनसे जुड़े कुछ ऐसे किस्से बतायेंगे जिससे उनके व्यवहार, स्वभाव, विचारों और चिंतन की पवित्रता का हमें पता चलता है।

1. जब डॉ. कलाम बतौर वैज्ञानिक काम करते थे तो एक बार उनकी टीम के एक सदस्य ने घर जल्दी जाने की अनुमति मांगी ताकि वह अपने बच्चों को एक प्रदर्शनी दिखाने ले जा सके। लेकिन व्यस्तता के कारण वह व्यक्ति ये बात भूल गया और शाम को अति ग्लानि महसूस करते हुए जब वह घर पहुंचा तो पता चला कि डॉ. कलाम बच्चों को प्रदर्शनी दिखाने ले गए हैं।

Image result for pics of abdul kalam going for exhibition with kids
Credit: scootalks

2. 2013 में सैन डिएगो (San Diego), कैलिफ़ोर्निया (California), में आयोजित एक समारोह में जब खाने के वक्त कुछ भारतीय बच्चे डॉ. कलाम से मिलने पहुंचें तब उन्होंने एक छात्र को अपनी प्लेट में से खाने को कहा। ज़ोर देने पर बच्चे ने सलाद की प्लेट में से पालक की एक पत्ती उठा ली। हमें विश्वास है कि यह घटना ज़रूर उस छात्र के जीवन की एक प्रेरणादायक पत्ती बन गयी होगी।

Image result for pics of abdul kalam kid taking spinach leaf from his plat
Credit: indiatoday

3. जब डॉ. कलाम डीआरडीओ (DRDO) में थे, तो किसी बिल्डिंग की सुरक्षा के लिए उसकी बाहरी दीवारों के ऊपर कांच के टुकड़े लगाने का सुझाव दिया गया, परन्तु उन्होंने इसे ये कहते हुए ख़ारिज कर दिया कि ऐसा करने से चिड़ियाँ जब दीवार पर बैठेंगी तो उन्हें चोट पहुँच सकती है।

Image result for pics of abdul kalam kid taking spinach leaf from his plat
Credit: quora

4. एक बार डॉ. कलाम जब स्कूल के बच्चों को भाषण दे रहे थे तब बिजली चले जाने की वजह से माइक का चलना बंद हो गया। इस समस्या का समाधान डॉ. कालम  ने तुरंत कर दिया, वे उठे और सीधा बच्चों के बीच चले गए। उन्होंने  बच्चों को घेरा बनाने को कहा और स्वयं बीच में खड़े हो गए।इस तरह से उन्होंने लगभग 400 बच्चों के साथ बिना माइक के संवाद किया।

Image result for pics of abdul kalam
Credit: abdulkalam

5. एक बार क्लास 6th के एक छात्र ने “विंग्स ऑफ़ फायर” (Wings Of Fire) किताब पढ़ने के बाद डॉ. कलाम का एक स्केच बनाया। परिवार वालों ने बच्चे को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि इसे राष्ट्रपति को भेजा जाए। लड़के ने सोचा, “इससे क्या होगा, ये तो उन्हें मिलेगा भी नहीं।”  पर फिर भी बहुत जोर डालने पर उसने स्केच भेज दिया। कुछ दिनों बाद उसे डॉ. कलाम का दस्तखत किया हुआ धन्यवाद पत्र मिला।

Image result for pics of abdul kalam
Credit: newindianexpress

6. राष्ट्रपति बनने के कुछ दिनों बाद वे किसी समारोह में उपस्थित होने केरल के  राजभवन, त्रिवेंद्रम गए। उन्हें अपनी ओर से किसी दो व्यक्ति को बुलाने का अधिकार था और आप जान कर हैरान होंगे कि उन्होंने एक मोची को और एक छोटे से होटल के मालिक को बुलाया। दरअसल, डॉ. कलाम बतौर वैज्ञानिक काफी समय त्रिवेन्द्रम में रहे थे और तभी से वे इन लोगों को जानते थे। किसी नेता या सेलेब्रिटी को बुलाने की बजाय उन्होंने इन आम लोगों को बुलाया।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds